health

सुहागरात क्या है, कैसे और क्यों सुहागरात मनाया जाता है – suhagrat kaise manaya jata hai – othershealth.in

Contents hide
3 सुहागरात मनाने का तरीका और टिप्स – suhagrat tips in hindi सुहागरात कैसे मनाएं
3.7 पति पत्नी पहली रात में क्या करें – What to do on suhagraat in Hindi

सुहागरात –  suhagrat in hindi

जैसा कि आप जानते है कि शादी की पहली रात को सुहागरात कहा जाता है. इसे अलग अलग भाषाओं में अलग अलग नाम से भी जाना जाता है. सुहागरात पति और पत्नी की जिंदगी का एक अहम हिस्सा माना जाता है. शादी की पहली रात ( suhagrat ) को लेकर लोगों के मन में कई तरह के प्रश्न होते हैं. इस रात में महिलाओं व पुरुषों दोनों में ही समान उत्सुकता बनी रहती है. शादी की पहली रात ( suhagrat ) का मतलब पति और पत्नी का शारीरिक रूप से एक होना माना जाता है. 

लेकिन जिंदगी की इस खास रात को इतना ही समझ लेना गलत होगा संबंध बनाने के अलावा इस रात में और भी कई रस्मो से गुजरना पड़ता है. दरअसल शादी के बाद सुहागरात ही पति-पत्नी के नए जीवन की वह पहली रात होती है. जिसमें वह दोनों एक साथ होते हैं और दोनों एक दूसरे को समझने की कोशिश भी करते है. शादी की पहली रात को लेकर पति व पत्नी दोनों के ही मन जितनी उत्सुकता बनी रहती है. उतना ही मन में घबराहट भी बनी रहती है.  

इस विषय पर लोगों की उत्सुकता और घबराहट को देखते हुए आज आपको सुहागरात के बारे में विस्तार से बताने की कोशिश करेंगे. इसके साथ ही आपको यह भी बताने कि कोशिश करेंगे कि सुहागरात क्यों मनाई जाती है और इसको मनाने का सही तरीका क्या है. क्यूंकि लोगो के मन में कई सवाल होते है. इसके अलावा यहां हम आपको सुहागरात मनाने के टिप्स भी बताने की कोशिश करेंगे. 

सुहागरात क्या होती है? – suhagrat kiya hota hai?

सुहागरात से जुड़ी लोगो के मन में कई तरह के सवाल होते है, जैसे – 

  • 1. सुहागरात में क्या करना चाहिए 
  • 2. सुहागरात कैसे मनाएं 
  • 3. सुहागरात को मनाने का तरीका और टिप्स 
  • 4. सुहागरात का सही अर्थ क्या है 
  • 5. सुहागरात का मतलब क्या होता है 
  • 6. सुहागरात क्यों मनाई जाती है 
  • 7. सुहागरात में टिप्स 

इससे जुड़े और अन्य कई सारे सवाल लोगो के मन में मौजूद होते है. जिसका सवाल हम आपको देने को कोशिश करेंगे. सुहागरात क्यूं मनाना चाहिए. और इसका मतलब किया होता है. ये सभी सवाल लोगो के मन में चलते रहते है. सुहागरात का मतलब होता है. पति पत्नी को एक अच्छे से समझना. उनसे खुल कर बात करना. अपने साथी के बारे में अच्छे से जानना. आपने साथी को अच्छे से समझना. ताकि आने वाली शादी शुदा जिंदगी को आराम से गुजरा जा सके. 

अक्सर लोगो को यह लगता है, कि सुहागरात ( suhagrat ) का मतलब होता है संबंध बनाने. लेकिन ऐशा नहीं संबंध बनाने से पहले अपने साथी के बारे में जान लेना बहुत जरूरी होता है. इसके अलावा आपका साथी आपके साथ संबंध बनाने के लिए राज़ी है कि नहीं. यह भी जानना बहुत जरूरी है. 

सुहागरात मनाने का तरीका और टिप्स – suhagrat tips in hindi सुहागरात कैसे मनाएं

आज हम आपको इस आर्टिकल में सुहागरात से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी देने की कोशिश करेंगे. आपके उन सभी सवालों के जवाब देने को कोशिश करेंगे. जिसका एक लड़का और लड़की बहुत अधिक सोचती है. सुहागरात वाले दिन पति और पत्नी को किया करना चाहिए और किया नहीं करना चाहिए. उन सभी के बारे में विस्तार से बताने की कोशिश करेंगे. 

साथ ही यह भी बताएंगे कि शादी की पहली रात संबंध कैसे बनाना चाहिए और करना चाहिए या नहीं. इसके अलावा इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे. इसके अलावा आपको इस विषय से जुड़ी कोई अन्य सवाल का जवाब चाहिए, तो आप हमसे संपर्क कर सकते है. 

सुहागरात की शुरुवात कैसे करे – suhagrat ki shuruwat kaise kare 

जब महिला पहली बार अपने ससुराल जाती है. तो गृह परवेश से पहले इन्हें काई रस्मो से गुजरना पड़ता है. जिसकी तैयारी बहुत पहले से शुरू हो जाती है. दुनिया अलग अलग धर्मो में गृह परवेश के अलग अलग रस्म होती है. गृह परवेश के बाद उन्हें सभी से मिलना पड़ता है. सभी को जानना भी पड़ता है. उसके बाद उनकी जिंदगी का सबसे हसीन पल शुरू होता है. जब पति और पत्नी को उनके रूम में छोड़ दिया जाता है. उसके बाद और बहुत सी रस्म पति और पत्नी को पूरा करना पड़ता है. जिसके बारे में हम आपको नीचे बताने की कोशिश करेंगे. 

1. बहु का स्वागत करे – Bahu ka swagat kare

जैसे ही पहले बार बहु घर में परवेश करने के लिए घर के चौखट पर कदम रखती है. तब उनके स्वागत के बहुत से लोग मौजूद होते है. इसके अलावा गृह परवेश करने से पहले उन्हे बहुत सी रशमो से भी गुजरना पड़ता है. उनके सामने गेट पर एक लोटे में चावल रख दिया जाता है. जिसे बहुत को अपने दाएं पैर से उसे गिरान होता है. उसके बाद ही बहु घर में परवेश करती है.

2. नई बहु के पैरों के निशान जमीन पर लेना – 

हिन्दू और मुसलमान दोनों में शादी के बाद के रिश्ते अलग अलग होते है. मुसलमानो में बहु के पैरो वाली निशान को नहीं किया जाता है. लेकिन हिंदू में इसे बहुत ही शुभ मानते है. क्यूंकि हिंदुओ में बहु को लक्ष्मी माना जाता है. जब वो पहली बार पहली बार किचिन में पैर रखने जाती है. तब भी उन्हे यही रस्म कराया जाता हैं. इस रस्म में वधू के पैर को लाल रंग के थाली में डाला जाता है. उसके बाद उन्हें बाहर पैर रखने को बोला जाता है. 

3. खेल का अयोजन करे.

लडके के घर वाले आपने बहु को सबसे जान पहचान करवाने के लिए खेल का भी आयोजन करते है. खेल के अयोजन से घर में हंसी खुशी का माहौल बन जाता है. जिससे वधू के लिए भी किसी से बात चीत करना आसान हो जाता है. इससे बहु को सभी को जानने में भी काफी आसानी होती है. दूध में अंगूठी डालने को रस्म एक बहुत ही पुरानी और अच्छी रस्म है. जिससे महिला आपने आपको अपने ससुराल में घुलने देती है. 

4. रिश्तेदारों से मेल-जोल बढ़ाना 

जब वधू पहली बार गृह परवेश करती है, तो वधू वहां के सभी लोगो से अनजान होती है. ऐसे में घर वाले वधू को सबसे मेल जोल बढ़ाने के लिए घर के सभी सदस्य से मिलवाते है. जिसे मुंह दिखाई की रस्म भी कहीं जाती है. भारत के काई जगह में वधू को सबसे मिलवाने के लिए महफ़िल का आयोजन भी किया जाता है. जैसा कि आपने हम साथ साथ है movie में अपने देखा होगा. 

5. रीति-रिवाजाें के बाद वर-वधु के लिए कमरा सजाना 

जब सभी रीति रिवाज होते है. इस दौरान दूल्हे के रूम को अच्छी तरह से सजाया जाता है. जब रूम अच्छी तरह से सजा दिया जाता है. तब पति पत्नी को रूम में भेज दिया जाता है. ताकि पति और पत्नी अपनी आने वाली जिंदगी की एक नई शुरुवात कर सके. इसके बाद पति और पत्नी की असली कहानी शुरू होती है. रूम में जाने के बाद पति पत्नी को किया करना चाहिए और किया नहीं इसके बारे में आप नीचे जान सकते है. 

पति पत्नी पहली रात में क्या करें – What to do on suhagraat in Hindi

शादी के पहले रात में जिसे हम सुहागरात के नाम से भी जानते है, इस पहली रात में पति और पत्नी को किया किया करना चाहिए. नीचे हम इस विषय में विस्तार पूर्वक जानकारी देने की कोशिश करेंगे. क्यूंकि शादी की पहली रात को लेकर मन में जितनी उत्सुकता रहती है. उतना ही डर भी बना रहता है. कि रूम में जाने के बाद किया करना चाहिए और किया नहीं करना चाहिए. इसे के बारे में हम आपको नीचे बताएंगे. 

1. पति अपने पत्नी को कुछ तोहफा दें – suhagrat main kuch tohfa den

जैसा कि आप जानते है. किसी भी रिश्ता को मजबूत बनाने के लिए तोहफा एक अहम किरदार निभात है. आप जब पहली बार अपने रूम में सुहागरात के दिन अपने पत्नी से मिले तो, उन्हे कुछ तोहफा अवश्य दे. आप जो भी तोहफा सुहागरात में अपने साथी को देंगे. वो उसे जिंदगी भर याद रखेगी. 

तोहफा हमेशा अच्छा और थोड़ा महंगा लें. और हो सके तो उनके पसंद का ही तोहफा लेकर जाएं. जिससे आपका साथी आपसे काफी खुद हो जाएं. इससे आप अपने घबराहट को भी दूर कर सकते है. क्यूंकि बहुत से लोग सुहागरात वाले दिन अपने पत्नी से बात करने में थोड़ा डरते है. आपके तोहफा देने से स्तिथि सामान्य हो जाती है. और डर का माहौल भी कम हो जाता है. 

2. पति और पत्नी एक दूसरे को जानने की कोशिश करें – suhagrat main ek dusre ko janne ki koshis kare

शादी के पहले दिन आप कोई भी काम अपने साथी से करने से पहले उसके बारे में जानने की कोशिश करें. और आप अपने बारे में भी कुछ बनाने की कोशिश करें. जिससे माहौल को सामान्य करने में थोड़ा मदद मिल सके. क्यूंकि महिला को अपने सुहागरात को लेकर काफी संकाएं बनी रहती है. 

आप कोशिश करे अपने साथी से अच्छी बात करने की, जिससे आपका साथी आपके ऊपर भरोसा कर सके. आप अपने साथी को हसाने की भी कोशिश कर सकते है. आपने साथी के पसंद ना पसंद के बारे में भी कुछ ना कुछ जानने की कोशिश करें. और कभी भी अपने साथी के साथ जबरदस्ती करने की कोशिश ना करें. इससे आपका रिश्ता काफी मजबूत होने लगेगा. 

3. शादी की पहली रात संबंध कैसे बनाए – suhagrat main Sambandh kaise bnana chahiye

पहली बार शारीरिक संबंध बनाने में जितना आनंद आता है. उतना ही मन में घरबहट भी रहती है. पहली बार अपनी साथी के साथ संबंध बनाने के लिए आप पहले अपनी साथी से सहमति के सकते है. पहले आप उनसे अच्छा से बात करने की कोशिश करें.

उसके बाद जब आप अपने साथी से बात करने लगे, तब आप अपने तरफ़ से संबंध बनाने के लिए पहल कर सकते है. कभी भी महिला साथी आपके साथ संबंध बनाने से लिए पहल नहीं करेगी. संबंध बनाने से लिए सबसे पहले आपको ही पहल करनी पड़ेगी. सम्बन्ध बनाने से पहले आप अपने साथी से इस विषय पर चर्चा भी कर सकते है. 

4. अपने सुहागरात के दिन सम्बन्ध बनाने में जल्दबाजी ना करें – sambandh bnane main jaldazi na kare

आपको इस बात को पूरा ध्यान रखना चाहिए. कि संबंध के दौरान किसी भी तरह का जल्दबाजी नहीं करना है. क्यूंकि अगर आप सुहागरात में शारीरिक सम्बन्ध बनाने के दौरान जल्दबाजी करते है. तो इससे आप संबंध का आनंद नहीं ले पाते है. इसके अलावा आपके जल्दबाजी से आपकी महिला साथी भी संतुष्ट नहीं हो पाती है. जिससे बाद में यह आपके लिए काफी परेशानी का सबब बन सकता है. 

बहुत बार ऐशा देखा गया है कि पुरषों को सुहागरात को लेकर काफी उत्सुकता बनी रहती है. उन्हे इतनी उत्सुकता रहती है कि वो अपने बगल में अपनी पत्नी को देख बहुत जल्दबाजी करने लगते है. ऐशा करना आपके लिए कभी कभी अच्छा साबित नहीं होता है. 

क्यूंकि बहुत सी महिला को जल्दबाजी मैं कोई भी काम करना पसंद नहीं होता है. उन्हे लगता है, कि एक पहले अपने साथी को अच्छी तरह से जान लें. उसके बाद ही कुछ करे. जिससे उनका भरोसा भी बना रहे. आप पहले आपने साथी को सबंध बनाने के लिए मनाएं. उसके बाद धीरे धीरे उसके करीब जाने की कोशिश करें. 

आप कोई भी काम जल्दबाजी में ना करे. खासकर शारीरिक गतिविधियों के दौरान तो बिल्कुल भी जल्दबाजी ना करे. अगर आप शारीरिक के दौरान जलबाजी करेंगे. तो आप इससे अपने साथी को आप पूरी तरह संतुष्ट नहीं कर पाएंगे. अगर आपके शारीरिक संबंध के दौरान महिला के योनि से रक्तस्राव होता है. इससे आपको घबराने की जरूरत नहीं है. 

पहली बार शारीरिक संबंध के दौरान योनि से रक्तस्राव होना एक सामान्य प्रक्रिया है. इससे आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है.  लेकिन बहुत बार ऐशा होता है. कि पहली बार संबंध बनाने के दौरान महिला की योनि से रक्तस्राव नहीं होता है. जिससे पुरषों को लगता है कि उनका साथी पहले भी किसी से सम्बन्ध बना चुका है. जिससे उनके रिश्ते में काफी करवाहत आ जाती है. 

कई बार तो ऐशा होता है कि रिश्ता टूटने की भी नौबत आ जाती है. लेकिन बहुत से डॉक्टर से हमारी टीम ने बात की है, बहुत बार ऐशा होता है कि उनके योनि से रक्तस्राव नहीं होता है. क्यूंकि बचपन में खेल के दौरान उनके योनि की सील खुल जाती है. 

5. शादी की पहली रात शारीरिक संबंध बनाने से पहले करें फोरप्ले ( Romance ) – suhagrat se pehle romance kare

शादी की पहली रात अगर आप शारीरिक संबंध जा रहे है, तो आपके यह जानना जरूरी है, कि शारीरिक संबंध से पहले आप अपने साथी के साथ भरपूर रोमांस करे. रोमांस करने से आपका साथी काफी उत्साहित हो जाता है. आपके साथ संबंध के लिए. महिलाओं को उनके चरमसुख तक पहुंचने के लिए थोड़ा वक्त लगता है. 

ऐसे में अगर आप संबंध बनाने में जल्दबाजी करने लगते है, तो आप अपने साथी को संतुष्ट नहीं कर पाते है. जिससे महिलाएं अपनी चरमसुख तक नहीं पहुंच पाती है. जिससे वो चिड़चिड़ा सा महसूस करने लगती है. आप रोमांस करके अपने महिला साथी को उसके चरमसुख तक पहुंचा सकतें है. जिससे वो आपसे बहुत अधिक खुश रहने लगती है. रोमांस में आपको किया किया करना चाहिए. इस विषय में हम आपको जानकारी अपने अगले आर्टिकल में देने की कोशिश करेंगे. 

6. शादी की पहली रात में संबंध बनाने में क्या सावधानी दौरान बरतें  – suhagrat main sambandh bnane fayde

शादी की पहली रात कोई भी कदम सोच समझ कर उठाना चाहिए. जिससे आपकी आने वाली जिंदगी खराब ना हो जाए. अगर आप संबंध बनाने केह रहे है, तो आपको आराम से संबंध बनाना चाहिए. संबंध बनाने समय आपको सावधानी बरतनी चाहिए. 

आपको संबंध बनाने के दौरान कभी भी जल्दबाजी नहीं करना चाहिए. जिससे आपके बहुत जल्दी रस्खालित ना हो जाए. अगर आप बहुत जल्दी रस्खालित जाएंगे, तो इससे आपका साथी आप से खुश नहीं हो पाएग. जिससे आपको बाद में समस्या हो सकती है. आप कोशिश करें, कि अपने सुहागरात से दिन पहली बार करने के लिए निरोध का प्रयोग करे. 

शादी की पहली रात क्या नहीं करना चाहिए – shadi ki pehli raat ( suhagraat ) kiya nahi karna chahiye

शादी की पहली रात जिसे हम सुहागरात भी कहते है. यह हमारी जिंदगी की सबसे हसीन और अहम रात होती है. अगर आप अपने पहले रात को सफल बना लेते है. तो इससे आपके आनी वाली जिंदगी पर बहुत ही अच्छा प्रभाव पड़ता है. और अगर इसे खराब बनाते है.

इसका खामियाजा आपको जिंदगी भर भुगतना पड़ता है. सुहागरात वाले दिन क्या करना चाहिए और क्या क्या नहीं करना चाहिए इस विषय पर हम नीचे आपको विस्तार पूर्वक जानकारी देने की कोशिश करेंगे ताकि आप अपनी सुहागरात को हसीन में बना सके. 

1. जबरदस्ती संबंध बनाने की कोशिश ना करे – jabardasti karne ki koshish na kare

सबसे पहले आपको यह जानने की कोशिश करना चाहिए. कि किया आपका साथी आपके साथ संभोग करने के लिए तैयार है, कि नहीं. अगर आपका साथी राज़ी हो, तभी आप संबंध बनाने की कोशिश करे. अन्यथा जबरदस्ती करने की कोशिश ना करे.

इससे आपके रिश्तों में कड़वाहट आ सकती है. जिससे आपकी आने वाली जनदगी भी खराब हो सकती है. कोशिश करे, कि संबंध बनाने के लिए आपका साथी पूरी तरह से तैयार हो. और अगर वो राजी ना हो, तो जबरदस्ती करने की कोशिश ना करे.

2. अपने सुहागरात के दिन नशा करने से बचें – suhagrat wale din nasha karne se bache 

शादी की पहली रात पति को कभी भी नशा नहीं करना चाहिए. क्यूंकि यह रात एक दूसरे को जानने और समझने कि रात होती है. दोनों एक दूसरे के सहयोग से मिलन भी करते है. लेकिन अगर आप सुहागरात वाले दिन नशा करते है, तो इससे आपको काफी नुकसान भी जो सकता है. अक्सर देखा गया है, कि कई लोग अपने शादी वाले दिन शराब का सेवन कर लेते है, जो कि एक बहुत ही गलत बात है. 

पति को समझना चाहिए, कि उन्हें शादी की पहली रात ऐशा कोई भी कदम नहीं उठाना चाहिए. जिससे उनकी आने वाली जिंदगी खराब हो जाए. अगर आप अपने सुहागरात को हसीन बनना चाहते हैं, तो आपको सुहागरात के दिन नशे से दूर रहना चाहिए. जिससे आपकी आने वाली जिंदगी अच्छे से गुजर सके. 

3. अपने पहले दिन पत्नी को शादी के खर्चों के बारे में ना बताए – suhagrat main kiya baten karna chahiye

शादी की पहली रात जिंदगी की एक हसीन रात होती है. इसे फालतू के बातो में बर्बाद नहीं करना चाहिए. लोग फालतू की बातों में अपने शादी की पहली रात बर्बाद कर देते है. जिससे वो अपने शादी की पहली रात का आनंद पूरी तरह से नहीं ले पाते है. जिससे आगे चलकर उन्हे परेशानी भी होती है.

शादी की पहली रात को पति पत्नी के एक दूसरे को अच्छी तरह से समझना चाहिए. इसे शादी के खर्चों का हिसाब लगाने में व्यर्थ नहीं करना चाहिए. ऐशा देखा गया है कि पति और पत्नी अपनी पहली रात में शादी का खर्चा जोड़ने बैठ जाते है. जिससे उनके जिंदगी का सबसे हसीन पल बित जाता है. आपको अपने शादी की पहली रात का पूरा आनंद लेना चाहिए. जिससे सुहागरात आपको पूरी जिन्दगी भर याद रहे. 

4. सुहागरात के दिन सम्बन्ध बनाने से घबराएं नहीं – suhagrat ke din sambandh bnane se ghabrayen nahi

महिला और पुरष एक दूसरे के पहले मिलन के दिन काफी डरे हुए रहते है, डर का कारण होता है. पहली बार एक दूसरे से मिलना और बात करना. इसके अलावा पुरषों को नपुंसकता और शीघ्रपतन की समस्या का डर बना रहता है. पुरष अपने शीघ्रपतन के डर से कई तरह की दवाइयों का सेवन कर लेते हैं, जिससे उन्हें बाद में काफी नुकसान हो सकता है. 

पहली बार में संबंध बनाने में लगभग सभी लोगो को डर लगता है. उन्हे लगता है, कि कहीं उनका साथी उनसे संतुष्ट ना हो पाया, तो वह उनके साथ संभोग नहीं करेंगे. यही सब सोच कर पुरषों में अन्य गुप्त रोग की समस्या उत्पन्न हो जाती है. अपने शादी की पहली रात पति और पत्नी को डरना नहीं चाहिए. खुल कर संबंध बनाना चाहिए. 

अगर आप खुल कर संभोग करते है, तो आप ज्यादा अच्छे से और लंबे समय तक टिके रहते है. जिससे आपका सामान जल्दी निढाल नहीं होता है. औरतों को भी पहली बार संभोग करने से काफी डर लगता है. उन्हे लगता है. कि उन्हें बहुत अधिक दर्द होगा. लेकिन ऐशा नहीं है. अगर पहली बार संभोग कर रहे हैं, तो आपको हल्का सा दर्द होगा और यह दर्द बहुत जल्दी खतम भी हो जाता है. और आप संभोग का आंनद लेने लगते है. 

Back to top button