Ayurveda

प्रवाल पिष्टी के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – Praval Pishti uses, benefits and side effect in Hindi

Contents hide
3 प्रवाल पिष्टी के घटक द्रव्य – Praval Pishti ingredients in hindi
3.6 प्रवाल पिष्टी के चिकित्सीय उपयोग – Praval Pishti uses in hindi

प्रवाल पिष्टी – Praval Pishti in hindi

दोस्तो आज हम इस आर्टिकल में प्रवाल पिष्टी ( Praval Pishti ) के बारे में जानने की कोशिश करेंगे. प्रवाल पिष्टी के बारे में आपको विस्तार से जानकारी देने की कोशिश करेंगे हमारे एक्सपर्ट. आज हम प्रवाल पिष्टी के उन सभी पहलू पर बात करेंगे, जिसको लोग गूगल पर बहुत अधिक मात्रा में सर्च करते हैं. 

उस सामग्री की पूरी जानकारी लेने की कोशिश करते हैं. प्रवाल पिष्टी ( Praval Pishti) के फायदे, नुकसान, सेवन विधि, तासीर और बनाने की विधि. इन सभी पर विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे. बहुत से लोग इसके बारे में जानते तो है लेकिन उन्हें यह पता नहीं होता है कि ये कैसे काम करता है. 

प्रवाल पिष्टी क्या है? – what is Praval Pishti in Hindi

Praval Pishti मुख्य रूप से एक आयुर्वेदिक औषधि है. जिसका उपयोग कई प्रकार के रोगों में किया जाता है. इसका मुख्य घटक प्रवल होता है. जिससे इसको बनाया जाता है. इसे कई प्रकार के नामो से जाना भी जाता है. हिंदी में इसे मूंगा के नाम से जाना जाता है और इंग्लिश में कोरल के नाम से जाना जाता है. 

प्रवाल पिष्टी को बनाने में मुख्य तौर पर 21 दिनों का समय लगता है. प्रवाल पिष्टी को बनाने के लिए सबसे पहले सूद्ध प्रवाल को चीनी मिट्टी के बर्तन में गुलाब जल के साथ इसको घोट का तैयार किया जाता है. आगे हम आपको इसके बनाने की विधि के बारे में आपको विस्तार से बताने की कोशिश करेंगे. 

Praval Pishti के तासीर की बात करे, तो इसकी तासीर ठंडी होती है. इसकी तासीर ठंडी होने का मुख्य का होता है. गुलाब जल के साथ इसका मिश्रण. प्रवाल पिष्टी की तुलना यदि हम प्रवाल भस्म से करे, तो यह प्रवाल भस्म की तुलना में अधिक ठंडी होती है. प्रवाल भस्म के तासीर की बात करे, तो उसका तासीर गरम होता है. क्यूंकि इसे आग में भस्म करके बनाया जाता हैं. 

प्रवाल पिष्टी का सेवन अनेक प्रकार के रोगों में किया जाता है जैसे – क्षय रोग, पित्तदोश, रक्तदोश, खांसी, नेत्र दोष, कफ रोग, हाइपर, एसिडिट, calcium की कमी एवं बच्चो आदि के रोग में मुख्य रूप से इस्तेमाल की जाती है. इसका सेवन अत्यधिक खतरनाक रोगों में भी किया जाता है. 

इन्हे भी पड़े : लिंग पर वेसलीन लगाने के फायदे और नुकसान – ling par vaseline lagane ke fayde aur nukshan

प्रवाल पिष्टी के घटक द्रव्य – Praval Pishti ingredients in hindi 

Praval Pishti में निम्न घटक द्रव्य का इस्तेमाल किया जाता है. 

  • 1. शुद्ध प्रवाल ( मूंगा )
  • 2. गुलाब जल 

प्रवाल पिष्टी बनाने की विधि – Praval Pishti making vidhi in Hindi

Praval Pishti को बनाने की विधि काफी आसान है, इसे कोई भी आसानी से घर पर भी बना सकता है. अगर आपको प्रवाल पिष्टी बनाने की विधि नहीं पता, तो आज हम आपको प्रवाल पिष्टी बनाने की विधि के बार में भी बताएंगे. 

प्रवाल पिष्टी को बनाने का नियम बेहद आसान है. सबसे पहले आप सुद्घ प्रवाल को एक चीनी मिट्टी के बर्तन में रख लें. उसके बाद उसने गुलाब का जल दाल दें. उसके बाद आप इसे 21 दिनों तक घोटे. 21 दिनों की कड़ी मेहनत के बाद आपका प्रवाल पिष्टी बन कर तैयार हो जाएगा. अधिक जानकारी के लिए आप किसी आयुर्वेद विशेषज्ञ से सलाह लें सकते है. 

प्रवाल पिष्टी के फायदे – Praval Pishti benefits in hindi

1. बुखार में प्रवाल पिष्टी के फायदे

Praval Pishti का सेवन बुखार में मुख्य रूप से किया जाता है. अगर किसी व्यक्ति को बहुत तेज़ बुखार हो, तो इसका सेवन अवश्य कराना चाहिए. बुखार की अधिकता का मुख्य कारण अगर पित्त की अधिकता है या शरीर में बहुत अधिक दर्द हो रहा है, तो भी आपको इसका सेवन अवश्य करना चाहिए. इस अवस्था में प्रवाल पिष्टी का सेवन करने से बुखार बहुत जल्दी उतर जाता है. 

2. हाथ या पैर के जलन में प्रवाल पिष्टी के फायदे  

इसका सेवन उस व्यक्ति को अवश्य करना चाहिए. जिनके पैर और हाथ में जलन की समस्या रहती है. इसके अलावा अगर आपके पूरे शरीर में जलन कि समस्या रहती हो, तो इसका सेवन जरूर करना चाहिए. इसके सेवन से आपको जलन से काफी राहत मिल मिल जाता है. 

3. छोटे बच्चो के काली खांसी में प्रवाल पिष्टी के फायदे

कभी कभी बच्चो को काली खांसी की समस्या उत्पन्न हो जाती है. उनको बहुत अधिक मात्रा में खांसी होने लगती है. ऐशा होने बच्चो में और भी अन्य समस्या उत्पन्न हो जाती है, उनका मुंह भी फूल जाता है, इसके अलावा उनके मुंह से खून भी आने लगता है. इस समस्या में भी आपको इसका सेवन करना चाहिए.

4. छाती का मांस फटने में प्रवाल पिष्टी के फायदे

खांसी बहुत अधिक मात्रा होने के वजह से कभी कभी कमजोर शरीर वाले रोगियों के छाती का में फट जाता है. जिससे उनकी समस्या और भी बढ़ जाती है. उन्हे बहुत अधिक पीड़ा भी होने लगती है. ऐसे समय आपको इसका सेवन जरूर करना चाहिए. 

इन्हे भी पड़े : लिंग पर नारियल तेल लगाने के फायदे और नुकसान – ling par nariyal tel lagane ke fayde aur nukshan

5. गर्भावस्था में प्रवाल पिष्टी के फायदे

गर्भवती महिला को इसका सेवन करने से काफी फायदा मिलता है. क्यूंकि बच्चो के भोजन का मुख्य मां का ही भोजन होता है. मां जो भी खाना खाती है. उस खाने का अंश ही बच्चे को भी मिलता है. इसलिए डॉक्टर गर्भवती महिला को प्रोटीन युक्त खाना खाने की सलाह देते है. 

इसके अलावा गर्भवती महिला को काफी समस्या का भी सामना करना पड़ता है. बहुत सी छोटी छोटी समस्या से छुटकारा पाने के लिए गर्भवती महिला को इसका सेवन करना चाहिए. इससे गर्भवती महिला को काफी फायदा होता है. 

प्रवाल पिष्टी के फायदे – Praval Pishti benefits in hindi

6. आंखो की जलन में प्रवाल पिष्टी के फायदे 

बहुत लोगो को आंखो में जलन की भी समस्या बनी रहती है. आंखो में जलन की वजह से आंख से बहुत अधिक मात्रा में पानी भी बाहर निकलता है. जिससे लोगो को लगता है, की यह एक अभूत बड़ी समस्या है, लेकिन ऐशा नहीं है. इस समस्या में भी यह काफी लाभकारी है. इस समस्या आपको इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से अवश्य सलाह लें. 

7. बवासीर में प्रवाल पिष्टी के फायदे

बवासीर की समस्या एक बहुत ही आम समस्या है. लेकिन जिस व्यक्ति को इस समस्या का सामना करना पड़ता है. उन्हे इस समस्या में बहुत सी तकलीफों का भी सामना करना पड़ता. उन्हे काफी शर्मिंदगी का भी सामना करना पड़ता है. जिससे उनकी समस्या काफी बढ़ जाती है. इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए भी आप इसका सेवन कर सकते है.

8. पित्त दोष नाशक

पित्त की समस्या में भी इसका सेवन किया जाता है. पित्त की समस्या में मुख्य तौर से भोजन खाने से पहले पेट बहुत अधिक दर्द रहता है. और खाना खाने के बाद पर में दर्द थोड़ा कम हो जाता है. लेकिन दर्द बना ही रहता है. इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप प्रवाल पिष्टी का सेवन करे. इसमें आपको बहुत राहत मिलती है. 

9. नकसीर फूटने में प्रवाल पिष्टी के फायदे 

गर्मी के समय में अक्सर लोगो के नाक से खून गिरने की समस्या होती है. इसके अलावा बच्चो में भी यह समस्या हो जाती है. उनके नाक से भी खून गिरने लगता है. जिसे नकसीर फूटने की समस्या के नाम से जाना जाता है. इस समस्या से घर वाले भी काफी परेशान हो जाते हैं. नकसीर की समस्या में आपको प्रवाल पिष्टी का सेवन जरूर करना चाहिए. यह इस समस्या में बहुत जल्दी असर करता है, क्यूंकि इसकी तासीर ठंडी होती है. 

10. एसिडिटी प्रवाल पिष्टी के फायदे

आज के समय में लगभग हर व्यक्ति acidity की समस्या से परेशान है. हर व्यक्ति इस समस्या से निजात पाना चाहता है. लेकिन इतना आसान भी नहीं है. Acidity से निजात पाने के लिए लोग तरह तरह की दवाइयों का भी सेवन करते है. लेकिन इससे उन्हे उन्हे थोड़े समय के लिए तो छुटकारा मिल जाता है. लेकिन यह अस्थाई नहीं होता है. कुछ समय बाद फिर acidity की समस्या उत्पन्न हो जाती है. लेकिन अगर आप इसका सेवन करते है, तो इससे आपको बहुत जल्द acidity की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा. 

प्रवाल पिष्टी के नुकसान – Praval Pishti side effect in Hindi

Praval Pishti के सामान्यता कोई दुष्परिणाम तो नहीं है. इसका सेवन हमेशा सीमित मात्रा में ही करना चाहिए. आपको इसका सेवन कितनी मात्र में करना इसकी जानकारी के लिए आप पहले अपने डॉक्टर से सलाह ले लें. उसके बाद ही इसका सेवन करे. क्यूंकि इस दवा का सेवन अधिक मात्रा में करने से निम्न परिणाम दिख सकते है. 

  • 1. पेट में सूजन 
  • 2. पेट में दर्द 
  • 3. गुर्दे में पथरी होना 
  • 4. भूख कम लगना 

इसके अलावा इसका सेवन अधिक समय तक नहीं किया जा सकता है. क्यूंकि इसमें कैल्शियम की मात्रा बहुत अधिक होती है. इसलिए अगर आपको इसका सेवन अधिक दिनों तक करना है, तो सबसे पहले अपने डॉक्टर से संपर्क करें. इसके अलावा अगर इसमें मौजूद किसी घटक से आपको एलर्जी है, तो इसका सेवन करने से बचना चाहिए. क्यूंकि यह भी आपके शरीर के लिए नुकसानदेह हो सकता है. 

इन्हे भी पड़े : जैतून का तेल को लिंग पर लगाने के फायदे और नुकसान – olive oil ko ling par lagane ke fayde aur nukshan

प्रवाल पिष्टी की सेवन विधि – Praval Pishti Sevan vidhi in hindi

Praval Pishti का सेवन आप एक दिन में 2 या 3 बार कर सकते है. इसका सेवन आपको खाना खाने के बाद ही करना चाहिए. आप इसका सेवन सुबह नाश्ता के बाद, दोपहर में खाना खाने के बाद और रात में भी खाना खाने के बाद आप इसका सेवन कर सकते हैं. आप इसका सेवन हल्के गुनगुने पानी के साथ या दूध के साथ कर सकते है. 

प्रवाल पिष्टी के चिकित्सीय उपयोग – Praval Pishti uses in hindi 

Praval Pishti का उपयोग निम्न चिकित्सीय रोगों में किया जाता है. 

  • 1. हृदय को मजबूत बनाने में. 
  • 2. Depression 
  • 3. कैल्शियम की कमी 
  • 4. हाथ पैर में जलन होने पर 
  • 5. एसिडिटी 
  • 6. पीरियड्स 
  • 7. मूत्र संक्रमण 
  • 8. पेट दर्द 
  • 9. नकसीर 
  • 10. बुखार 
  • 11. जवरनाशक 
  • 12. Osteoporosis 
  • 13. हड्डी को मजबूत बनाने में

प्रवाल पिष्टी का मूल्य – Praval Pishti price

Praval Pishti का निर्माण बहुत सी कंपनियां द्वारा किया जाता है. आप इसे किसी भी ऑनलाइन स्टोर से आसानी से घर बैठे मंगवा सकते है, या आप इसे दवाई या हकीमी दुकान से भी खरीद सकते है. 

  • 1. बैद्यनाथ प्रवाल पिष्टी – 10 ग्राम – ₹231.00 
  • 2. Patanjali praval Pishti – 5gm – ₹30.00
  • 3. Dhootpapeshwar mouktik mukta Pishti – 20 gram – ₹359.00
  • 4. Dabur praval Pishti – 5 gram – ₹151.00

प्रवाल पिष्टी के बारे में डॉक्टर से पूछे गए सवाल और उनके जवाब 

इन्हे भी पड़े : हिमालय कॉन्फीडो टैबलेट के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – Himalaya Confido Tablet uses, benefits and side effect in Hindi

Q1. प्रवाल पिष्टी का सेवन कितने दिनों तक करना चाहिए? 

Ans : प्रवाल पिष्टी का सेवन कितने दिनों तक करना चाहिए. इसकी जानकारी के लिए आप आपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते है. क्यूंकि अलग अलग रोगों में इसकी खुराक अवधि अलग होती है. 

Q2. प्रवाल पिष्टी का सेवन कब करना चाहिए? 

Ans : प्रवाल पिष्टी का सेवन आप एक दिन मैं 2 से 3 बार सेवन कर सकते हैं. आप इसका सेवन खाना खाने के बाद हल्के गुनगुने पानी या दूध के साथ कर सकते है. खाली पेट इसका सेवन करने से बचना चाहिए. 

Q3. क्या प्रवाल पिष्टी के सेवन से मुझे इसकी लत लग सकती है?

Ans : नहीं. इसका सेवन पूरी तरह सुरक्षित है. क्यूंकि यह एक आयुर्वेदिक औषधि है. इसलिए इसका सेवन करने से लत लगने की संभावना बेहद कम है. 

Q4. क्या प्रवाल पिष्टी सेवन शराब के साथ किया जा सकता है?

Ans : नही. शराब के साथ इसका सेवन नहीं करना चाहिए. क्यूंकि साथ इसका सेवन आपके पेट के लिए काफी नुकसानदेह हो सकता है. इससे आपके पेट में जलन कि समस्या उत्पन्न हो सकती है.

इन्हे भी पड़े : पतंजलि लिंग वर्धक टैबलेट के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – patanjali ling vardhak tablet uses, benefits and side effect in Hindi

Q5. क्या प्रवाल पिष्टी के सेवन के बाद ड्राइविंग किया जा सकता है?

Ans : हां. प्रवाल पिष्टी का सेवन करने के बाद ड्राइविंग किया जा सकता है. प्रवाल पिष्टी का सेवन करने से बाद आप ड्राइविंग कर सकते है. यह पूरी तरह सुरक्षित है. क्यूंकि इसके सेवन से नींद नहीं आती है. 

Q6. क्या प्रवाल पिष्टी का सेवन बच्चो के लिए सुरक्षित है?

Ans : हां. प्रवाल पिष्टी का सेवन बच्चो के लिए पूरी तरह सुरक्षित है. इसके सेवन से बच्चो को कई प्रकार के रोगों से छुटकारा मिलता है. छोटे बच्चो के खांसी को ठीक करने में यह अत्यन्त लाभकारी है. 

Q7. क्या प्रवाल पिष्टी का सेवन महिलाएं कर सकती है?

 Ans : हां. महिलाएं प्रवाल पिष्टी का सेवन कर सकती है. क्यूंकि महिलाओं के लिए इसका बहुत फायदमंद है. इसका सेवन उन महिलाओं को मुख्य रूप से करना चाहिए, जो गर्भवती हो. गर्भवती महिला और उनके बच्चे के लिए काफी फायदेमंद है. 

Q8. क्या प्रवाल पिष्टी का सेवन गुनगुने पानी के साथ किया जा सकता है? 

Ans : प्रवाल पिष्टी का सेवन हल्के गुनगुने पानी के साथ किया जा सकता है. पानी के साथ इसका सेवन करने किसी तेज़ का हानिकारक प्रभाव नहीं पड़ता है. यह पूरी तरह सुरक्षित है. 

नोट : प्रवाल पिष्टी के बारे में कोई और प्रश्न है, तो हमे कॉमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताएं. हम आपके सभी सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगें. 

Related Articles

Back to top button