Home Home remedy Motapa Kam kaise Kare? मोटापा कम कैसे करें - othershealth

Motapa Kam kaise Kare? मोटापा कम कैसे करें – othershealth

Motapa
Motapa

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो अपने शरीर का ध्यान रख नहीं पाते हैं. इस कारण से उन्हें कई तरह की समस्याओं का सामना भी करना पड़ता है. उन सभी समस्याओं में से motapa प्रमुख है. इसमें अत्यधिक मात्रा में शरीर में चर्बी एकत्रित होने लगती है.

भारत में हुए एक अध्ययन के अनुसार 2019 में 58% भारतीय मोटापा से पीड़ित है. ( जिनका BMI 25 से ज्यादा है ) motapa के कारण बहुत सी बीमारियां उत्पन्न होती है जैसे इसके कारण जोड़ों में दर्द होने लगता है. तंत्रिका तंत्र की समस्या हो जाती है.

Motapa के कारण हमारे आतों में कैंसर भी हो सकता है. कई सोधों में यह भी पता चला है कि ज्यादा motapa गर्भाशय के कैंसर का कारण भी सकता है. Motapa के कारण मानसिक तनाव भी काफी बढ़ जाता है और हम डिप्रेशन का शिकार होने लगते हैं.

Motapa के कारण हमारी कोलेस्ट्रॉल का स्तर बिगड़ जाता है कैरेक्टर के खतरे से बचने के लिए हमें motapa को कम करना बहुत जरूरी है. खराब कोलेस्ट्रॉल से हृदय संबंधी रोगों का खतरा बढ़ जाता है. ज्यादा motapa होने से हमारी नशे बंद होने लगती हैं.

Motapa
Motapa

Motapa के कारण आंतों के अंदर भी समस्या उत्पन्न हो जाती है क्योंकि इसके कारण हमारे शरीर की कोशिकाओं पर बहुत ज्यादा दबाव पड़ता है. Motapa के कारण हाई ब्लड प्रेशर की समस्या हो जाती है.

हाई ब्लड प्रेशर से हृदय की धमनियों का रक्त का दबाव बढ़ जाता है. इससे किडनी फेल होने और हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है. Motapa के कारण सबसे ज्यादा लोगों का मजाक होता है इसी वजह से व्यक्ति को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है.

Motapa के कारण लोग डिप्रेशन का शिकार हो जाते हैं मोटे लोगों को शरीर पर घाव होने से वह जल्दी ठीक नहीं हो पाता मोटे लोगों को सांस लेने में भी कठिनाई होती है. जिसकी वजह से वह रात को खर्राटे लेते हैं. मोटापे के कारण व्यक्ति को सांस से संबंधित बीमारी भी हो सकती है.

महिलाओं में motapa बढ़ने से गर्भधारण करने में भी कठिनाई होती है इसकी वजह से उन्हें पॉलीसिस्टिक ओवरी डिजीज होने का खतरा होता है जो बांझपन का प्रमुख कारण है.

Motapa की असली वजह

Motapa के कई कारण हो सकते हैं इनमें से ज्यादातर जीवनशैली और खानपान से जुड़े हैं. इसके अलावा कुछ बीमारियां और आनुवंशिक कारणों से भी मोटापा आ जाता है.

कुछ प्रमुख कारणों में जैसे- अधिक तले धोने और वसायुक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करना, जरूरत से ज्यादा खाना, अत्याधिक मात्रा में शराब और सिगरेट पीना, शारीरिक श्रम वाले काम कम करना, पर्याप्त मात्रा में नींद ना लेना, जरूरत से ज्यादा सोना, जेनेटिक और हार्मोन असंतुलन इसका प्रमुख कारण है

खुद को क्रियाशील रखें

अगर आपके शरीर में कोई गंभीर बीमारी हो. इससे पहले motapa का कंट्रोल करना जरूरी है. इसके लिए आपको अपने खान-पान में अधिक ध्यान देना होगा और दिनचर्या का भी ख्याल रखना होगा.

इसके साथ ही नियमित व्यायाम करें. सुबह का नाश्ता दोपहर का खाना समय पर खाएं, और रात का खाना सोने से 2 घंटे पहले खा लेना जरूरी है. इससे पाचन तंत्र का संतुलन बिगड़ता नहीं है. और खाना जल्दी पचता है.

जितना हो सके जंक फूड से दूरी बनाकर रखें अपने खाने में सब्जियां व फल को हिस्सा बनाएं. जंक फूड खाने से बचें. अधिक ग्रेवी लेने से बचें. भुने तरीके से खाए. ताजे सब्जियों को अपने आहार में शामिल करें.

अंकुरित अनाज का सेवन करना बहुत फायदेमंद होता है. गर्म दूध ले. लेकिन मक्खन से बचे. प्रतिदिन पर्याप्त मात्रा में नींद लेनी चाहिए. समय पर सोएं और समय पर उठे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

ऐसे फैट को कम कर बनाए फिटनेस – fat diet in Hindi

फैट डाइट - fat diet in Hindi  अक्सर फैट कम करने के लिए हम गलत डायट या उपायों...

कहीं जीवन भर का दर्द ना बन जाए स्पॉन्डिलाइटिस – spondylitis in Hindi

स्पॉन्डिलाइटिस - spondylitis in Hindi spondylitis - आज वर्किंग प्रोफेशनल एक आम समस्या से पीड़ित देखे जा रहे...

सोशल डिस्तांसिंग से अधिक कारगर मास्क | Social Distancing |

Social Distancing - कोरोना वायरस से बचाव के लिए सरकार ने सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है. अब भी...

बचे मलेरिया के डंक से – malaria in Hindi

मलेरिया - about malaria in Hindi malaria in Hindi - गर्मी बढ़ने के साथ ही मच्छरों का प्रकोप...

रखें अपनी सांसों का ख्याल – asthma in Hindi – othershealth

अस्थमा - about asthma in Hindi डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार पूरे विश्व में करीब 25 करोड लोग...