Ayurveda

हेमपुष्पा के फायदे, नुकसान और इस्तेमाल करने का तरीका – hempushpa uses, benefits and side effect in Hindi

हेमपुष्पा – hempushpa in Hindi

हेमपुष्पा ( hempushpa in hindi ) महिलाओं के शरीर में होने वाली कई बीमारियों के इलाज के लिए बहुत अच्छी और लाभकारी औषधि है. हेमपुष्पा मासिक धर्म संबंधी समस्याओं में बहुत कारगर है. साथ ही खून को साफ करने, हार्मोन असंतुलन वा कई प्रकार के मानसिक और शारीरिक रोग में भी काफी उपयोगी है.

hempushpa in hindi ) का सबसे अधिक फायदा उन महिलाओं को होता है, जिन महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है. आज हम इस पोस्ट में हेमपुष्पा के फायदे, नुकसान और इसके सेवन या उपयोग के बारे में बात करेंगे. साथ ही यह भी जानने की कोशिश करेंगे कि हेमपुष्पा का सेवन करते वक्त क्या सावधानी बरतनी चाहिए.

हेमपुष्पा के घटक – hempushpa ingredients in Hindi

hempushpa में बहुत सारी जड़ी बूटियों का इस्तेमाल किया जाता है. नीचे हम आपको इन सभी के नाम बता रहे हैं जैसे – 

  • 1. मूसली
  • 2. शतावरी 
  • 3. धातकी पुष्प 
  • 4. मंजिष्टा 
  • 5. पुनर्नवा 
  • 6. बाख 
  • 7. अश्वगंधा
  • 8. गोखरू
  • 9. दारूहल्दी 
  • 10. गंभारी 
  • 11. लोध्र 
  • 12. बाला 
  • 13. नागरमोथा
  • 14. अनंतमूल 
  • 15. संखपुष्पी

इन सभी जड़ी बूटियों के मिश्रण से हेमपुष्पा बनाई जाती है.

हेमपुष्पा के फायदे – hempushpa benefits in Hindi

हेमपुष्पा ( hempushpa benefits in hindi ) के बहुत सारे फायदे हैं. उन सभी फायदों का वर्णन नीचे किया गया है. 

मोनॉपज में : जब महिलाओं में मोनोपॉज की समस्याएं उत्पन्न होती है, तब महिलाओं का शरीर बहुत अधिक कमजोर हो जाता है. इस दौरान महिलाओं को पसीना आना, कमजोरी महसूस होना, चक्कर आना जैसी समस्याएं उत्पन्न होती है. इस दौरान हेमपुष्पा ( hempushpa uses in hindi ) का सेवन काफी फायदेमंद होता है. हेमपुष्पा के सेवन से शरीर में पुनः ऊर्जा का संचार होने लगता है.

othershealth.in

पेट संबंधी समस्याओं में : पेट में दर्द, पेट में ऐंठन, अपाच में, जी चलाना जैसी कई समस्याओं में हेमपुष्पा hempushpa काफी फायदेमंद है. हेमपुष्पा आंत संबंधी रोगों को भी दूर करता है.

त्वचा संबंधी समस्याओं में : हेमपुष्पा ( hempushpa uses in hindi ) खून को साफ करती है. जिससे चेहरे पर होने वाली फुसियां और रूखापन दूर होता है. इससे पूरी त्वचा और चेहरे पर चमक आती है. त्वचा संबंधी समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है. 

पीरियड के दर्द में : बहुत-सी महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान बहुत दर्द और ऐठन होती है ऐसी महिलाओं को हेमपुष्पा का सेवन करना चाहिए हेमपुष्पा के इस्तेमाल से काफी फायदा होता है 

रेगुलर पीरियड में : बहुत सी ऐसी महिलाएं भी होती है, जिनका पीरियड समय पर नहीं आता है. और पीरियड के दौरान काफी पीड़ा भी होती है. साथ ही ब्लड भी आते हैं. इसमें भी हेमपुष्पा का सेवन करने से काफी राहत मिलती है. यह मासिक धर्म संबंधी समस्याओं को आसानी से दूर करता है. 

हेमपुष्पा के फायदे – hempushpa benefits in Hindi

गर्भावस्था में : गर्भावस्था के दौरान महिलाएं काफी कमजोर हो जाती हैं. प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को हेमपुष्पा का सेवन करना चाहिए. हेमपुष्पा के सेवन से बच्चे के स्वास्थ पैदा होने की संभावना बढ़ जाती है.

हरमोनाल असंतुलन में : लगभग हर महिला को अपने जीवन में कभी ना कभी हर्मॉनाल विकारों का सामना करना पड़ता है. जिससे अनिंद्र, मुहांसे, अनचाहे बाल, लगातार वजन बड़ना, पाचन समस्याओं का सामना करना पड़ता है. हेमपुष्पा का सेवन कर आप इन सभी समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं. 

गैस की समस्याओं में : दुनियां लगभग हर महिला को गैस की समस्या कभी मा कभी जरूर होती है. ऐसे वक्त में आप अगर हेमपुष्पा का सेवन करती हैं, तो यह आप के लिए काफी फायदेमंद साबित होगा.

वजन बढ़ाने में यह उन महिलाओं के लिए किसी वरदान से कम नहीं है. जिनका वजन बहुत कम होता हैं. और वह काफी पतली है. जिस वजह कम वजन वाली महिलाओं को बहुत जगह शर्मिंदगी का सामना भी करना पड़ता है. लोग उनके कम वजन को लेकर काफी ताना भी देते हैं. घर वाले भी काफी परेशान रहते हैं. हेमपुष्पा का एक महीने तक सेवन करने से वजन काफी बड़ जाता है. 

मूत्र संबंधी समस्याओं में : अगर महिलाओं को पेशाब करते वक़्त जलन होती है, तो ऐसी महिलाओं को हेमपुष्पा का सेवन करना चाहिए. इसके सेवन से गुर्दा सही काम करने लगता है.

हेमपुष्पा के इस्तेमाल करने कि विधि – how to use hempushpa in Hindi

hempushpa uses in hindi ) को आप रोजान दिन में 2 बार 2 या 3 ( 7 मिलीमीटर ) चमच से अधिक ना लें. एक दिन मैं इससे अधिक हेमपुष्पा लेने आपको नुकसान भी हो सकता है. और आपको कितना हेमपुष्पा एक दिन लेना है इसकी अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से परामर्श कर सकती है. 

हेमपुष्पा का सेवन किन किन बीमारियों में किया जाता है – hempushpa uses in Hindi

हेमपुष्पा ( hempushpa ) के इस्तेमाल से बहुत सारी बीमारियों से बच छुटकारा पा सकती है जैसे – 

  • 1. पीरियड का नियमित ना होना.
  • 2. कमर का दर्द. 
  • 3. पेट में होने वाली गैस की समस्याओं से. 
  • 4. हर्मोनाल असंतुलन में 
  • 5. खून की कमी में. 
  • 6. मासिक धर्म के समस्याओं में. 
  • 7. बहुत जल्दी पीरियड होने में. 
  • 8. पोषक तत्वों की कमी को पूर्ति करने में.  
  • 9. हाथ पैर के जलन को दूर करने में. 
  • 10. अधिक पीरियड में.

लड़कियों या महिलाओं के लिए यह syrup बहुत कारगर है.

हेमपुष्पा के नुकसान – hempushpa side effect in Hindi

hempushpa side effect in Hindi ) टॉनिक पूर्ण रूप से आयुर्वेदिक टॉनिक है. जिसकी वजह इसके साइड इफेक्ट्स बहुत कम है. जिस महिला हेमपुष्पा बनाने में प्रयोग कि गई सामग्री से एलर्जी है, तो इसके साइड इफेक्ट दिखना सुअभविक है. इसके बहुत अत्यधिक सेवन से महिलाओं का वजन बढ़ने लगता है.

हेमपुष्पा कैसे इस्तेमाल करें – how to use hempushpa in Hindi

hempushpa uses in hindi ) आप सुबह और शाम दोनों टीमें लें सकती है. आपको हेमपुष्पा का सेवन सुबह के वक़्त नास्ता करने के बाद 2 से 3 चम्मच ले सकती है और रात का खाने बाद भी 2 से 3 चम्मच ले सकती है. अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लें.

हेमपुष्पा का सेवन करते वक़्त किया सावधानियां बरतनी चाहिए? – precautions of hempushpa in Hindi

हेमपुष्पा ( hempushpa uses in hindi ) का सेवन करते वक़्त हमें कुछ सावधानियां बरतन चाहिए. नहीं तो यह आगे चलकर हमें नुकसान पहुंचा सकते हैं. हेमपुष्पा का सेवन करते वक़्त किया किया सावधानी बरतनी चाहिए. इसका उदाहरण नीचे दिया गया है. जैसे – 

  • 1. हेमपुष्पा hempushpa का इस्तेमाल बहुत अधिक नहीं करना चाहिए. इससे हमें नुकसान हो सकता है. नाप वाले ढक्कन से ही नाप कर पीना चाहिए. 
  • 2. हेमपुष्पा hempushpa का सेवन कभी भी खाली पेट नहीं करना चाहिए. जब भी इसका सेवन करे, उससे पहले कुछ खा लें. खाने के आधे घंटे के बाद ही इसका सेवन करे. 
  • 3. प्रेनेंसी के दौरान बिना डॉक्टर से सलाह लिए हेमपुष्पा का इस्तेमाल ना करे. 
  • 4. अगर आप मां है और बच्चे को स्तनपान कराती है तो हेमपुष्पा hempushpa का सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श कर लें.
  • 5. कभी भी हेमपुष्पा hempushpa का सेवन करते वक़्त शराब का सेवन ना करे. अन्यथा परिणाम घातक हो सकते हैं. 
  • 6. हेमपुष्पा में मौजूद किसी भी सामग्री से अगर आप को एलर्जी है, तो किरपिया हेमपुष्पा का सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक से संपर्क कर लें. 
  • 7. अगर आप इसके साथ किसी अन्य दवा या विटामिंस का सेवन कर रहे हैं, तब भी आप डॉक्टर से संपर्क करें. 
हेमपुष्पा का सेवन कौन कौन कर सकता है – hempushpa ka sevan kon-kon Kar sakta hai? 

हेमपुष्पा ( hempushpa uses in hindi ) का इस्तेमाल या सेवन केवल महिलाओं द्वारा ही किया जाता है, क्योंकि इसे खासकर महिलाओ के इस्तेमाल के लिए ही बनाया गया है. बहुत सारी ऐसी बीमारियां होती है, जो सिर्फ को ही होती है. पुरषों को नहीं. इन सभी बीमारियों से निजात पाने के लिए ही हेमपुष्पा का इस्तेमाल किया जाता है.

hempushpa uses in hindi ) महिलाओं के शरीर में होने वाली कई बीमारियों के इलाज के लिए बहुत अच्छी और लाभकारी औषधि है. हेमपुष्पा मासिक धर्म संबंधी समस्याओं में बहुत कारगर है. साथ ही खून को साफ करने, हार्मोन असंतुलन वा कई प्रकार के मानसिक और शारीरिक रोग में भी काफी उपयोगी है.

हेमपुष्पा hempushpa का सबसे अधिक फायदा उन महिलाओं को होता है, जिन महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है. आज हम इस पोस्ट में हेमपुष्पा के फायदे, नुकसान और इसके सेवन या उपयोग के बारे में बात करेंगे. साथ ही यह भी जानने की कोशिश करेंगे कि हेमपुष्पा का सेवन करते वक्त क्या सावधानी बरतनी चाहिए.

हेमपुष्पा मूल्य – hempushpa price in Hindi

hempushpa price in India ) के 170ml के सिसी की प्राइस 233 रुपया है. और 450ml की सिसी की प्राइस 539 रुपया है. जिसे आप किसी भी दवाई दुकान या ऑनलाइन स्टोर से खरीद सकते हैं. यह लगभग सभी दवाई दुकान पर उपलब्ध है.

नोट : हेमपुष्पा ( hempushpa ) के बारे में कोई और प्रश्न है, तो हमे कॉमेंट बॉक्स में लिख कर जरूर बताएं. हम आपके सभी सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे.

Related Articles

Back to top button