Ayurveda

चंद्रप्रभा वटी फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – chandraprabha vati uses, benefits and side effect in Hindi

Contents hide
3 चंद्रप्रभा वटी के घटक – chandraprabha vati ingredients in hindi
3.7 चंद्रप्रभा वटी के फायदे स्त्री संबंधी रोग में – chandraprabha vati benefits in hindi

चंद्रप्रभा वटी – chandraprabha vati in hindi

आज हम इस आर्टिकल में चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi के बारे में जानने की कोशिश करेंगे. चंद्रप्रभा वटी के फायदे, नुकसान और इसके उपयोग करने का तरीके के बारे में. इन सभी बातों के बारे में आज हम विस्तार से बताने की कोशिश करेंगे. चंद्रप्रभा वटी का सेवन स्त्री पुरष किसी भी उम्र में कर सकते हैं. चंद्रप्रभा वटी के सेवन से शरीर में नई ऊर्जा का संचार होता है. जिससे आपको पहले से बेहतर महसूस होता है. 

चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi के सेवन से शरीर को कई तरह में रोगों से लड़ने की शक्ति मिलती है. चंद्रप्रभा वटी कई बीमारियों से छुटकारा मिल सकता है. चंद्रप्रभा वटी गुर्दे की पथरी, मूत्राशय, मूत्र पथ, बार बार पेशाब आना, पेशाब में रूकावट, प्रोस्टेट बढ़ना या घटना, अग्नाशय में रोग, हड्डियों के रोग, जोड़ों के दर्द में, पुरूषों में बांझपन की समस्या, नंपुसकता दूर करने में, स्वपन दोष की समस्या, मधुमेह रोग, महिलाओं की समस्याओं के साथ मानसिक रोगों के इलाज में भी काफी फायदेमंद होता है.

चंद्रप्रभा वटी क्या है – what is chandraprabha vati in hindi

चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi एक आयुर्वेदिक औषधि है. जो टैबलेट के रूप में उपलब्ध है. आज कल की जिंदगी में हम अपने बारे में सोचना ही भूल गए है. आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में हमें बहुत सी बीमारियों का सामना करना पड़ता है. ऐसे में अगर आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन करते हैं, तो यह बहुत फायदेमंद होता हैै.

इन्हे भी पड़े : पतंजलि लिंग वर्धक तेल के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – patanjali ling vardhak oil uses, benefits and side effect in Hindi

चंद्रप्रभा वटी के घटक – chandraprabha vati ingredients in hindi

चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi को बनाने में बहुत सी जड़ी बूटियों का इस्तेमाल किया जाता है. उन सभी जड़ी बूटियों का वर्णन नीचे किया गया है. जिससे इस्तेमाल कर आप भी अपने घर में चंद्रप्रभा वटी बना सकते हैं.

  • 1. शुद्ध गुग्गुलू 96gm
  • 2. शुद्ध शिलाजीत 96gm
  • 3. मिश्री 48gm
  • 4. लोह भस्म 24gm
  • 5. काली निशोथ 12gm
  • 6. दन्तीमूल 12gm
  • 7. बंसलोचन या तबाशीर 12gm
  • 8. तेजपत्र 12gm
  • 9. दालचीनी 12gm
  • 10. छोटी इलायची के बीज 12gm
  • 11. कपूर 3gm
  • 12. वच 3gm
  • 13. नागरमोथा 3gm
  • 14. चिरायता 3gm
  • 15. गिलोय 3gm
  • 16. देवदारु 3gm
  • 17. अतिविषा 3gm
  • 18. दारुहल्दी 3gm
  • 19. हल्दी 3gm
  • 20. पीपलामूल 3gm
  • 21. चित्रक 3gm
  • 22. धनिया 3gm
  • 23. हरड़ 3gm
  • 24. बहेड़ा 3g.lm
  • 25. आंवला 3gm
  • 26. चव्य 3gm
  • 27. विडंग 3gm
  • 28. गजपीपली 3gm
  • 29. काली मिर्च 3gm
  • 30. पिप्पली 3gm
  • 32. शुंठी 3gm
  • 33. स्वर्णमाशिक भस्म 3gm
  • 34. स्वर्जिका क्षार 3gm
  • 35. यवक्षार 3gm
  • 36. सैंधव लवण 3gm
  • 37. सौवर्चल लवण 3gm
  • 38. विड लवण 3gm

चंद्रप्रभा वटी के फायदे – chandraprabha vati benefits in hindi

chandraprabha vati benefits in hindi बहुत से रोगों मैं बहुत फायदेमंद है. इसलिए इसका सेवन करने की सलाह डॉक्टर भी देते हैं. चंद्रप्रभा वटी के फायदे किया किया है. या चंद्रप्रभा वटी के फायदे किन बीमारियों मैं होते हैं. इसका वर्णन हम नीचे आसान शब्दों में बताने जा रहे हैं. जिससे आपको चंद्रप्रभा वटी के फायदे के बारे में आसानी से समझ में आ सके. 

चंद्रप्रभा वटी के फायदे के फायदे मधुमेह रोग में – chandraprabha vati benefits in hindi

यह chandraprabha vati benefits in hindi मधुमेह रोगी व्यक्ति के लिए बहुत फायदेमंद है. चंद्रप्रभा वटी में बहुत सी ऐसी जड़ी बूटियां मौजूद होती है, जो यूरिन में चीनी की मात्रा को नियंत्रित करने में सहायक होती है. इसलिए चंद्रप्रभा वटी का सेवन सुबह और दो दो गोली सेवन करना चाहिए. चंद्रप्रभा वटी के सेवन के फायदे बहुत है.

इन्हे भी पड़े : पतंजलि लिंग वर्धक टैबलेट के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – patanjali ling vardhak tablet uses, benefits and side effect in Hindi

चंद्रप्रभा वटी के फायदे किडनी रोग में – chandraprabha vati benefits in hindi

चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi का सेवन किडनी के मरीजों के लिए वरदान से कम नहीं है. चंद्रप्रभा वटी का सेवन सभी किडनी रोगी को कराया जाता है. और डॉक्टर भी किडनी मरीजो को चंद्रप्रभा वटी का सेवन करने की सलाह देते हैं. चंद्रप्रभा वटी में सभी जड़ी बूटियां आयुर्वेदिक होने के कारण यह किडनी रोग में बहुत लाभप्रद है. 

जैसा कि आप chandraprabha vati benefits in hindi सभी जानते हैं कि किडनी रोग में पेशाब की समस्या उत्पन हो जाती है. पेशाब बहुत कम होता है. जिस वजह से शरीर में बहुत सी बीमारिया उत्पन्न हो जाती है. ऐसे में अगर आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन बहुत ही लाभदायक होता है. इसके अलावा यह और भी बहुत रोगों मैं फायदेमंद है. 

चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi के लगातार से किडनी को बहुत फायदा होता है. यूं कहे, तो किडनी को एक नया जीवन मिलता है. जिसकी वजह से उनकी कार्य करने की क्षमता में भी इजाफा होता है. चंद्रप्रभा वटी इसके अलावा शरीर से और भी कई विशेले पदार्थ को शरीर से बाहर निकलती है, जैसे – यूरिया और यूरिक एसिड.

चंद्रप्रभा वटी के फायदे मूत्र संबंधी विकारों में – chandraprabha vati benefits in hindi

चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi अन्य रोगों कि तरह मूत्र संबंधी विकारों मैं भी बहुत फायदेमंद है. यदि किसी को बार बार पेशाब आने की समस्या हो, तो उस व्यक्ति को चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए. इसके अलावा पेशाब रुक रुक कर आता हो, पेशाब में जलन होना, सही मात्रा में पेशाब का ना आना या पेशाब ही ना होना, तो ऐसे में भी आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना चाहिए. चंद्रप्रभा वटी के सेवन से इन सभी बीमारियों से छुटकारा मिलता है. इसके अलावा अगर आपको मूत्र संक्रमण है, तो भी आप इसका सेवन कर सकते हैं.

चंद्रप्रभा वटी के फायदे मानसिक और शारीरिक शक्ति को बढ़ाने में – chandraprabha vati benefits in hindi

चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi का अगर आप लगातार सेवन करते हैं, तो यह आपको शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत बनाने में बहुत मदद करता है. बढ़ती उम्र के कारण लोगो मैं थकावट भी बढ़ने लगती है और मानसिक संतुलन भी बिगड़ने लगता है. ऐसे समय में अगर आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन शुरू कर देते हैं, तो आप ना सिर्फ शारीरिक रूप से मजबूत हो जाते हैं. बल्कि यह आपको मानसिक रूप से भी अधिक मजबूत बना देता है. 

चंद्रप्रभा वटी के फायदे मर्दानी कमजोरी में – chandraprabha vati benefits in hindi

हस्तमैथुन करने के कारण पुरषों को बाद में बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. बहुत अधिक हस्तमैथुन के कारण वीर्य का बहुत अधिक नुकसान होता है. हस्तमैथुन के कारण और भी बहुत सी समस्याएं उत्पन्न होती हैं, जैसे – नामर्दी, शीघ्रपतन, लिंग में टेढापन, लिंग का खड़ा ना होना आदि. ऐसे में अगर आप चंद्रप्रभा वटी का सेवन करते हैं, तो यह आपके लिए किसी वरदान से कम नहीं है. 

इन्हे भी पड़े : हिमालय कॉन्फीडो टैबलेट के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – Himalaya Confido Tablet uses, benefits and side effect in Hindi

चंद्रप्रभा वटी के फायदे स्त्री संबंधी रोग में – chandraprabha vati benefits in hindi

चंद्रप्रभा वटी को स्त्री और पुरुष दोनों के लिए सामान्य रूप से इस्तेमाल करने के लिए बनाया गया है. चंद्रप्रभा वटी के सेवन से जितना फायदा पुरुष को होता है. उतना ही फायदा स्त्रियों को भी होता है. चंद्रप्रभा वटी के लगातार सेवन से गर्भाशय में अयी कमजोरी को दूर करने में मदद करता है. और उसे मजबूती प्रदान करता है. 

चंद्रप्रभा वटी के फायदे यूरिक एसिड घटाने में – chandraprabha vati benefits in hindi

Chandraprabha vati benefits in hindi का सेवन यूरिक एसिड को भी कंट्रोल में रखने मैं मदद करता है. जिसके कारण कई बीमारियों से बचा जा सकता है.  इसके अलावा यह गठिया बाय में भी बहुत फायदेमंद है. डॉक्टर गठिया बाय के रोगी को चंद्रप्रभा वटी का 12 महीनों तक सेवन करने की सलाह देते हैं.

चंद्रप्रभा वटी के नुकसान – chandraprabha vati side effect in Hindi

चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi के सेवन से कोई नुकसान तो नहीं है. लेकिन इसमें लौह की मात्रा अधिक होने के कारण पेट मैं अल्सर जैसे बीमारियों से ग्रस्त व्यक्ति को इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श कर लेना चाहिए. 

आज आपको चंद्रप्रभा वटी में मौजूद किसी घटक से एलर्जी है, तो इसका सेवन करने से बचना चाहिए. परहेज़ ना करने से यह आपके शरीर पर दुष्प्रभाव दिखा सकता है. 

चंद्रप्रभा वटी की सेवन विधि / खुराक – chandraprabha vati uses in hindi

इसका chandraprabha vati benefits in hindi का सेवन आप एक दिन मैं 2 बार कर सकते है. सुबह और रात के वक़्त. लेकिन इसे कितना लेना है एक बार मैं इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए. इसका अधिक सेवन सेहत के लिए हानिकारक होता है. बच्चे को एक दिन मैं 2 गोली से अधिक सेवन नहीं कराना चाहिए. वयस्क एक दिन 2 बार इसका सेवन कर सकते हैं. इसका सेवन आपको गुनगुने पानी या दूध के साथ करना चाहिए.  

चंद्रप्रभा वटी के चिकित्सीय उपयोग – chandraprabha vati uses in hindi

इसका का उपयोग बहुत से बीमारियों मैं किया जाता है. सभी बीमारियों के बारे में नीचे बताया गया है. 

  • 1. अंडकोष में सुजन होने पर.
  • 2. असंतुलित स्त्री हार्मोन में.
  • 3. शुगर में.
  • 4. आँखों की बीमारियों में.
  • 5. सांस लेने में दिक्कत होने पर.
  • 6. शीघ्रपतन और वीर्य संक्रमण में.
  • 7. यौन रोगों में.
  • 8. गर्भाशय की समस्या होने पर.
  • 9. एड़ी के दर्द में.
  • 10. कैंसर, खुजली, गठिया आदि में.
  • 11. मानसिक थकान में.
  • 12. याददाश्त कमजोर होने पर.
  • 13. ट्यूमर होने पर.
  • 14. त्वचा रोग में.
  • 15. थकान, डांट विकार, नपुसंकता आदि में.
  • 16. पीरियड में दर्द होने पर.
  • 17. पीलिया में.
  • 18. पेशाब में जलन होने पर या पेशाब नहीं आने पर.
  • 19. बार-बार गर्भपात होने पर.
  • 20. पथरी में.
  • 21. शुक्र दोष में.
  • 22. सर्दी-खांसी में.

चंद्रप्रभा वटी का मूल्य – chandraprabha vati price

चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi के फायदे बहुत है. इसलिए बहुत से लोग चंद्रप्रभा वटी का सेवन करना पसंद करते हैं. और बहुत से डॉक्टर भी इसका सेवन करने की सलाह देते हैं. चंद्रप्रभा वटी का दाम भी बहुत कम है. जिसके वजह से कोई भी इसे आसानी से खरीद सकता है. और यह लगभग सभी दवाई दुकान पर भी उपलब्ध होता है. आप इसे ऑनलाइन स्टोर से भी खरीद सकते हैं. चंद्रप्रभा वटी के एक डब्बे का मूल्य ₹190 है. 

इन्हे भी पड़े : स्टे ऑन तेल के इस्तेमाल करने का तरीका, फायदे और नुकसान – stay on oil uses, benefits and side effect in Hindi

चंद्रप्रभा वटी के बारे में डॉक्टर से पूछे गए सवाल और उनके जवाब

Q1. चंद्रप्रभा वटी का सेवन कितने दिनों तक करना चाहिए? 

चंद्रप्रभा वटी का सेवन कितने दिनों तक करना चाहिए. इसकी जानकारी के लिए आपको डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए. डॉक्टर के कहने पर ही इसका सेवन करना चाहिए.

Q2.चंद्रप्रभा वटी का सेवन कब करना चाहिए? 

मूत्र, गर्भाशय, प्रजनन अंग संबंधित रोग में चंद्रप्रभा वटी का सेवन खाना खाने से 30 मिनट पहले इसका सेवन करना चाहिए. अन्य रोग मैं इसका सेवन खाना खाने में बाद करना चाहिए. 

Q3. क्या चंद्रप्रभा वटी का सेवन शराब के साथ किया जा सकता है? 

Ans : नहीं. चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi का सेवन शराब के साथ नहीं किया जा सकता है. चंद्रप्रभा वटी का सेवन शराब के साथ करने से शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है. 

Q4. क्या चंद्रप्रभा वटी के सवम से मुझे लत लग सकती है? 

Ans : नहीं. चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi के सवन से आपको इसकी लत नहीं लगती है. क्यूंकि यह एक आयुर्वेदिक वटी है. इसलिए इससे लत लगाने की संभावना बहुत कम है. 

Q5. क्या चंद्रप्रभा वटी का सेवन करने के बाद ड्राइविंग किया जा सकता है? 

Ans : आप चंद्रप्रभा वटी chandraprabha vati benefits in hindi का सेवन कर आसानी से बिना किसी परेशानी के ड्राइविंग कर सकते हैं. यह पूरी तरह सुरक्षित एक आयुर्वेदिक औषधि है.

इन्हे भी पड़े : सांडे के तेल के फायदे, नुकसान और लगाने का सही तरीका – sanda oil benefits and side effect in Hindi

Related Articles

Back to top button