Ayurveda

चंदनासव वटी सिरप के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – chandanasava vati syrup uses, benefits and side effect in Hindi

चंदनासव वटी – chandanasava vati in hindi

दोस्तो आज हम इस आर्टिकल में चंदनासव वटी ( chandanasava vati ) के बारे में जानने की कोशिश करेंगे. चंदनासव वटी के बारे में आपको विस्तार से जानकारी देने की कोशिश करेंगे हमारे एक्सपर्ट. आज हम चंदनासव वटी के उन सभी पहलू पर बात करेंगे, जिसको लोग गूगल पर बहुत अधिक मात्रा में सर्च करते हैं.

उस सामग्री की पूरी जानकारी लेने की कोशिश करते हैं. चंदनासव वटी ( chandanasava vati ) के फायदे, नुकसान, सेवन विधि, तासीर और बनाने की विधि. इन सभी पर विस्तार से जानने की कोशिश करेंगे. बहुत से लोग इसके बारे में जानते तो है लेकिन उन्हें यह पता नहीं होता है कि ये कैसे काम करता है.

चंदनासव वटी सिरप क्या है – what is  chandanasava vati syrup in Hindi

चंदनासव वटी सिरप chandanasava vati syrup uses in hindi की बात करे, तो यह एक आयुर्वेदिक औषधि है. जिसमें द्रव्य चंदन काफी मात्रा में होता है. यही वजह है कि इस औषधि को चंदनासव वटी कहा जाता है. इसका मुख्य काम शरीर को अंदर से शीतल करना.

आज हम इसके फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव के बारे में जानने की कोशिश करेंगे. साथ ही यह भी देखेंगे की इसमें इस्तेमाल किए जाने वाले घटक कोन कोन से है. 

इन्हे भी पड़े : हिमालय कॉन्फीडो टैबलेट के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – Himalaya Confido Tablet uses, benefits and side effect in Hindi

चंदनासव वटी सिरप के घटक – chandanasava vati syrup ingredients in Hindi

chandanasava vati syrup uses in hindi घातक की बात करे तो इसमें धात्रा, धातकी पुष्प, गुड़, शक्कर, रसना, परपत, कचुर, मुलाथी, पटोल्पत्र, कंचनारत्व, मोचरस, सफेद चंदन, सुगंधबाला, नागरमोथा, गंभारी, नीलकमल पुष्प, लोधरतव, पिर्यंगपुष्प, रक्त चंदन, चिरौता आदि. इसके अलावा और भी बहुत से औषधि इसमें मौजूद होती है. जिसके मिश्रण से चंदनासव वटी सिरप का निर्माण किया जाता है.

चंदनासव वटी सिरप की सेवन विधि/ खुराक – chandanasava vati syrup uses in Hindi

चंदनासव वटी chandanasava vati syrup uses in hindi सिरप का सेवन आप दिन में दो बार कर सकते है. आप सुबह नाश्ता करने के बाद इसका सेवन कर सकते हैं और रात में खाना खाने के बाद इसका सेवन करना चाहिए. इसका सेवन 1 से 2 चम्मच से अधिक नहीं करना चाहिए. इसके अधिक सेवन से आपकी हानि भी हो सकती है. 

इन्हे भी पड़े : जैतून का तेल को लिंग पर लगाने के फायदे और नुकसान – olive oil ko ling par lagane ke fayde aur nukshan

चंदनासव वटी सिरप के चिकित्सीय उपयोग – chandanasava vati syrup uses in Hindi

हर दवा या सिरप का उपयोग किसी ना बीमारी के निदान में किया जाता है. ठीक उसी प्रकार चंदनासव वटी सिरप का उपयोग भी बहुत सारे बीमारी में किया जाता है जैसे – 

  • 2. चंदनासव वटी सिरप पथरी बनने में अवरोधक. 
  • 3. गोनोरिया में. 
  • 4. सुक्रमेह मै. 
  • 5. पेशाब में होने वाली रुकावट में.
  • 7. स्वप्नदोष में 
  • 8. पेशाब के साथ धातु ( वीर्य ) गिरने में. 
  • 9. सिस्ट में. 
  • 10. शरीर के अधिक गर्मी में. 

चंदनासव वटी सिरप के फायदे – chandanasava vati syrup benefits in Hindi

कोई भी सिरप कोई व्यक्ति तभी लेता है जब उसे उस सिरप से लाभ हो. चंदनासव वटी सिरप मार्केट में बहुत डिमांड है, क्योंकि यह सिरप बहुत फायदेमंद है. बहुत से लोग जो चंदनासव वटी सिरप का सेवन कर चुके हैं, वो ये बताते हैं कि इसको पीने से उनको काफी फायदा हुआ है. चंदनासव वटी सिरप के फायदे की बात करे तो – 

  • 1. जैसा कि आप लोग जानते हैं कि यह एक आयुर्वेदिक औषधि है. और ज्यादातर आयुर्वेदिक औषधि की तासीर ठंडी होती है. 
  • 2. चंदनासव वटी सिरप के सेवन से शरीर में अत्यधिक गर्मी को दूर करने में मदद मिलती है. और शरीर को ठंडक देती है.  
  • 3. अगर आप के पैरों या हाथो में जलन होती है, तो आपको चंदनासव वटी सिरप का सेवन करना चाहिए. इसके सेवन से पैर व हाथ को जलन दूर होती है. 
  • 4. अगर आपको भी पेशाब करते वक़्त जलन महसूस होती है या पेशाब रुक रुक कर होता है. तो आपको चंदनासव वटी सिरप का सेवन अवश्य करना चाहिए. इसके सेवन से इन समस्याओं से छुटकारा मिलता है. 
  • 6. अगर आप को पेशाब करते वक़्त धातु ( वीर्य ) भी गिरता है. तो भी आपको इसका सेवन करना चाहिए. यह उसमें भी बहुत लाभकारी है. 
  • 7. अगर आपकी इसका सेवन महीने भर लगातार करते हैं, तो यह आपके शरीर में ऊर्जा के संचार को बड़ा देता है. क्यूंकि यह एक आयुर्वेदिक औषधि है. 
  • 8. चंदनासव वटी सिरप के सेवन से पाचन तंत्र भी मजबूत होता है. इसमें बहुत से ऐसे घटक होते है, जो आपके पाचन तंत्र को मजबूत करने में सहायक है.  
  • 9. अगर किसी इंसान के पेट में पत्थर हो जाए. तो ऐसे में आपको चंदनासव वटी सिरप का सेवन करना चाहिए. यह पथर के निर्माण को रोक देता है. और उसे गलाने में भी मदद करता है. 

इन्हे भी पड़े : पतंजलि लिंग वर्धक टैबलेट के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – patanjali ling vardhak tablet uses, benefits and side effect in Hindi

चंदनासव वटी सिरप के नुकसान – chandanasava vati syrup side effect in Hindi

अगर आप चंदनासव वटी सिरप को सही मात्रा में लेते है, तो इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है, लेकिन अगर आप इसे अधिक मात्रा में लेते हैं, तो इसके साइड इफेक्ट की संभावना बनी रहती है. इसके अलावा अगर आप मधुमेह के रोगी है, तो इसका कम करे या इसका सेवन करने से बचे. 

चंदनासव वटी सिरप मै मौजूद किसी भी घटक से अगर आपको एलर्जी है, तो भी इस लेने से बचे. बच्चे को इसका सेवन नहीं कराना चाहिए. इसके अलावा गर्भवती महिला को इसका सेवन डॉक्टर से बिना पूछे नहीं करना चाहिए. 

चंदनासव वटी सिरप का मूल्य – chandanasava vati syrup price in Hindi

 chandanasava vati का निर्माण मुख्य दो कंपनियों द्वारा किया जाता है. डाबर और वैद्यनाथ. यह दोनों कमानियां चंदनासव वटी सिरप का निर्माण 450ml के बोतल के रूप में करती है. और यह बिक्री के लगभग सभी दवाई दुकान और हकीमी दुकान पर उपलब्ध है.

आप चाहे तो इसे ऑनलाइन वेबसाइट से भी खरीद सकते हैं. डाबर के 450ml शीशी का मूल्य 146 रुपया है. और वैद्यनाथ के 450ml शीशी का मूल्य 136 रुपया है.

इन्हे भी पड़े : पतंजलि लिंग वर्धक तेल के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – patanjali ling vardhak oil uses, benefits and side effect in Hindi

Related Articles

Back to top button