इस महामारी में हर्बल सप्लीमेंट्स सहित इम्यूनिटी बूस्टर फूड का प्रचलन बढ़ा है. कई लोग कैफ़ीन फ्री हर्बल टी का सेवन कर रहे हैं. सेहत का इम्यूनिटी बूस्टर आजकल हरबल टी के रूप में ग्रीन टी, जिंजर टी लेमन टी और मिंट टी फिटनेस लवर्स अजमा रहे हैं.

इनमें से ही एक है कैमोमाइल टी. इसके बारे में लोगों को बहुत कम जानकारी है, जबकि इसे सबसे स्वस्थ हर्बल टी माना जाता है.


कैमोमाइल टी के फायदे – chamomile tea ke fayde

Benefits of kamomile tea


कई शोध में से शक्तिशाली इम्यूनिटी बूस्टर के तौर पर पाया गया है. इसके सेवन से शरीर में इम्यूनिटी तेजी से बढ़ती है. यह एसट्रेसी पौधे के फूलों से बनाई जाती है, जो देखने में डेजी प्रजाति की तरह ही लगती है.


इसके फूलों का इस्तेमाल प्राकृतिक उपचार के लिए किया जाता है. इसके अलावा यह बाल और स्किन के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है. 


नींद के लिए बेहतर | Beneficial for sleeping

यह तनाव और चिंता को दूर करती है, जिससे अच्छी नींद आती है. सोने से एक घंटा पहले इसका सेवन करने से भरपूर नींद आती है. स्लीप एपनिया या नींद से जुड़े अन्य विकारों में यह दवा की तरह काम करती है.सेहत का इम्यूनिटी बूस्टर कैफ़ीन फ्री होने के कारण अच्छी नींद आती है, जिससे आप ताजगी महसूस करते हैं.


बालों की मजबूती का राज | Secrets of Strong Hair

इससे बालों से जुड़ी कई समस्याएं दूर होती है. इसमें मौजूद केमिकल बालों को मजबूत बनाते हैं. इससे डैंड्रफ दूर होता है और बालों की मजबूती बनी रहती हैं.


इम्यूनिटी बूस्टर | Immunity Booster

इसमें फेनोलिक कंपाउंड्स पाया जाता है, जो संक्रमण से लड़ने की शक्ति देता है. इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए इसका चाय पी सकते हैं. शोध के मुताबिक 2 सप्ताह में पांच से छह कप कैमोमाइल चाय पीने से इम्युनिटी बढ़ती है. 


पीरियड्स के दर्द से छुटकारा  | Cure of period pain

पीरियड में इसके सेवन से महिलाओं को पेट दर्द, ऐठन, सूजन जैसी समस्याओं से राहत मिलती है.सेहत का इम्यूनिटी बूस्टर इसका नियमित सेवन शरीर में अमीनो एसिड और ग्लाइसिन का लेवल बढ़ाता है. मांसपेशियों में ऐंठन को कम करता है और गर्भाशय को रिलैक्स फील करता कराता है.


गर्भाशय और पेल्विक में ब्लड सरकुलेशन को बढ़ाता है. इस प्रकार यह पीरियड को नियमित करने में कारगर है. गर्भवती को इसके सेवन से बचना चाहिए. इससे अबॉर्शन का खतरा बढ़ता है.


तनाव में कमी लाना | get rid from depression

एंटीऑक्सिडेंट के कारण इससे सिर दर्द में राहत मिलती है. इसके नियमित सेवन से डिप्रेशन और बेचैनी को दूर किया जा सकता है. तनाव की स्थिति में यह रिलैक्स फील कराता है.


पेट के रोगों में राहत | get rid from stomach pain

इसमें कई पोषक तत्व होते हैं, जो पाचन तंत्र को सुचारू बनाते हैं. यह दस्त, पेट में ऐठन, सूजन, मितली और गैस आदि समस्याओं के खिलाफ बहुत प्रभावी है. आंतों की दीवार नरम हो सकता है, जिससे सूजन और दर्द में राहत मिलती है. यह गैस्ट्रिक सूजन और अल्सर के गठन के जोखिम को भी कम करता है. 


एलर्जी व डायबिटीज में रामबाण | Best Solution of allergy and diabities

यह ब्लड में शुगर व इंसुलिन की मात्रा को नियंत्रित करता है. इसमें मौजूद कार्बनिक रसायन ब्लड लेवल को कम करता है. साथ ही फूलों में जिन्हें एलर्जी रहती हो, उनके लिए एक कप कैमोमाइल टी एंड एंटी हिस्टामाइन के रूप में काम करके पूरे शरीर में एलर्जी प्रतिक्रियाओं को शांत कर लक्षणों को बिगड़ने से रोकती है.

स्किन इन्फेक्शन से छुटकारा | get rid from skin infection

इसमें एंटीऑक्सीडेंट एनडीए- ऑक्साइड के गुण पाए जाते हैं, जो चेहरे को प्राकृतिक रूप से सॉफ्ट बनाता है. अन्य देशों में इसका उपयोग जख्मो या घावों को भरने के लिए किया जाता था. चेहरे के घाव या गड्ढों को भरकर चेहरे में निखार लाता है. स्किन को प्राकृतिक तरीके से ब्लीच करता है. इसमें स्किन का कलर टोन में निखार आता है साथ ही स्किन को टाइट करता है.  


स्किन एलर्जी से राहत | get rid from skin allergy

kamomile tea से त्वचा में होने वाली एलर्जी और रसेज ठीक होती है. इसके लिए कैमोमाइल टी में रुई को दुबाएं और एलर्जी वाली जगह पर लगा दे. इससे एलर्जी खत्म हो जाएगी. इंटरनल एलर्जी के लिए इसका नियमित सेवन करें. 


डॉक्टर की सलाह लें | Doctors Suggestion


इसमें मौजूद फ्लेवोनॉयड, सेस्कतीपेनिस और एंटी ऑक्साइड शरीर के लिए फायदेमंद है. हालांकि कोई क्रॉनिक डिजीज या प्रेगनेंसी रहने पर इसके सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है.


कैमोमाइल टी के नुकसान | chamomile tea ke nukshan


गर्भवती को इससे नुकसान होता है. गर्भावस्था में इसका सेवन करने से यूरिन मसल्स टाइट हो सकती है. इससे गर्भवती और गर्भ में पल रहे भ्रूण को नुकसान हो सकती है. गर्भपात का जोखिम भी बढ़ जाता है.  


इसका सेवन खून को पतला बनाती है. इसलिए, जो लोग खून को पतला करने वाली दवाइयां लेते हैं, उन्हें इसके सेवन से नुकसान हो सकता है. ऐसे लोग डॉक्टर की सलाह के बाद ही इसका सेवन करें.


यदि किसी को डेजी परिवार के फूलों से एलर्जी है, तो इसका सेवन ना करें. क्योंकि कैमोमाइल भी इसी परिवार का हिस्सा है. छोटे बच्चों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए.


कैमोमाइल टी बनाने की विधि | Recipe of chamomile tea


 1. कैमोमाइल चाय या ग्रीक टी बनाने के लिए सबसे पहले एक कप के ऊपर छलनी रख ले.
 2. छलनी में चाय के फूल डाल दें. 
 3. धीमी आंच पर पानी उबाल लें. 
  4. उबले हुए पानी को चाय के फूलों पर डाल दे. 
  5. अब यही पानी दूसरे कप में डाल ले ध्यान रहे चाय के फूलों को हटाना नहीं है.
 6. इस में शहद डालकर अच्छी तरह से मिलाकर गरमागरम परोसें करें. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here