Ayurveda

अश्वगंधारिष्ट फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – Ashwagandharishta uses, benefits and side effect in Hindi

Contents hide
2 अश्वगंधारिष्ट क्या है? – Ashwagandharishta kya hai?

अश्वगंधारिष्ट – Ashwagandharishta

आज हम इस आर्टिकल में बात करेंगे. Ashwagandharishta benefits in hindi के बारे में. आज हम आपको अश्वगंधारिष्ट के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश करेंगे. अश्वगंधारिष्ट के फायदे, नुकसान और उपयोग करने के सभी विषय पर बात करेंगे. तो आइए जानते हैं अश्वगंधारिष्ट के बारे में – 

अश्वगंधारिष्ट क्या है? – Ashwagandharishta kya hai?

Ashwagandharishta एक आयुर्वेदिक सिरप है. जिसका मुख्य उपयोग मानसिक रोग एवम पाचन संस्थान समस्याओं मैं किया जाता है. अगर आपके शरीर में रक्तचाप की कमी के कारण मस्तिष्क में चेतना का अभाव हो जाता है, जिससे पर्याप्त मात्रा में मस्तिष्क को ऑक्सीजन नहीं मिल पाता है. इसका इलाज ना कर पाने की वजह से साल भर में लाखो लोगो की मौत हो जाती है. 

ऐसी मानसिक स्तिथि से लडने के लिए आपको Ashwagandharishta का सेवन करना चाहिए. अश्वगंधारिष्ट इस समस्या में बहुत फायदेमंद होता है. अश्वगंधारिष्ट दोबारा ऐसी स्थिति में आने नहीं देता है. अश्वगंधारिष्ट के और भी बहुत फायदे है. अगर आप इसका नियमित सेवन करते हैं, तो बहुत से बीमारियों से बच सकते हैं जैसे – थकान, कमजोड़ी, भूख ना लगना, मानसिक अवसाद, पागलपन, पाचन शक्ति और आयु संबंधी रोगों मैं अश्वगंधारिष्ट बहुत फायदेमंद है. 

इन्हे भी पड़े : पतंजलि लिंग वर्धक तेल के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – patanjali ling vardhak oil uses, benefits and side effect in Hindi

अश्वगंधारिष्ट के घटक – Ashwagandharishta ingredients in hindi

  • 1. अश्वगंधा
  • 2. सफेद मूसली
  • 3. मंजिष्ट
  • 4. हरीतकी
  • 5. हल्दी
  • 6. दारूहल्दी
  • 7. मुलेठी
  • 8. रसना
  • 9. विदारीकन्द
  • 10. अर्जुन की छाल
  • 11. धाय के फूल
  • 12. शहद
  • 13. नागकेसर
  • 14. इलायची
  • 15. तेजपात
  • 16. दालचीनी
  • 17. पीपल
  • 18. मिर्च 
  • 19. सोंठ
  • 20. चिते की छाल
  • 21. बच
  • 22. लाल चंदन
  • 23. सफेद चंदन
  • 24. नागरमोथा
  • 25. निशोथ
  • 26. अनंतमूल सफेद और काला

अश्वगंधारिष्ट के फायदे – Ashwagandharishta benefits in hindi

जैसा कि हमने आपको पहले ही बताया है. कि Ashwagandharishta Benefits in hindi के फायदे बहुत है. इसका सेवन बहुत से बीमारियों में किया जाता है. इन सभी बीमारियों का वर्णन हम नीचे आसान शब्दों मैं करने जा रहे हैं, ताकि आपको आसानी से समझ में सके. 

अश्वगंधारिष्ट के फायदे मानसिक रोग में – Ashwagandharishta benefits in hindi

Ashwagandharishta benefits in hindi के लगातार सेवन से मानसिक तनाव दूर होता है. जिससे मस्तिष्क पहले से बेहतर काम करने के लिए अग्रसित होता है. अश्वगंधारिष्ट के सेवन से मस्तिष्क को ताकत भी मिलती है. जिससे हमारा दिमाग भी तेज गति से काम करना शुरू कर देता है. अश्वगंधारिष्ट में बहुत से ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो हमारे कार्टोसिल स्तर को नियंत्रित रखते हैं. जो लोग मानसिक तनाव से मुक्त होना चाहते हैं, उनको अश्वगंधारिष्ट का सेवन करना चाहिए. इससे आपकी मानसिक तनाव से मुक्ति जरूर मिलेगी. 

इन्हे भी पड़े : पतंजलि लिंग वर्धक टैबलेट के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – patanjali ling vardhak tablet uses, benefits and side effect in Hindi

अश्वगंधारिष्ट के फायदे वायु संबंधित रोग में – Ashwagandharishta benefits in hindi

Ashwagandharishta वात रोग में भी बहुत लाभकारी होता है. क्यूंकि इसमें मौजूद आयुर्वेदिक औषधि वात नाशक होता है. अश्वगंधारिष्ट के सेवन से वायु संबंधित रोग को खतम करने में मदद मिलती है. 

अश्वगंधारिष्ट के फायदे पाचन तंत्र संबंधी रोग में – Ashwagandharishta benefits in hindi

अश्वगंधारिष्ट सिरप पाचन शक्ति को मजबूत करने के लिए बहुत ही उत्तम टॉनिक है. अश्वगंधारिष्ट जत्रगीन को प्रदीप कर पाचन तंत्र को मजबूत करने में सहायता करती है. अश्वगंधारिष्ट खाना को बहुत जल्दी पचाती है. जिससे खाना जल्दी भी पच जाता है. और पाचन शक्ति भी मजबूत हो जाती है.

अश्वगंधारिष्ट के फायदे शारीरिक कमजोरी को दूर करने में – Ashwagandharishta benefits in hindi

Ashwagandharishta का सबसे अच्छा फायदा यह है. कि यह शारीरिक कामजोड़ी को दूर कर शरीर को मजबूती प्रदान करता है. साथ ही यह दिल और दिमाग को तंदुरुस्त रखने में भी बहुत मदद करता है. बहुत से लोगो को आराम की जरूरत होती है. वे लोग थोड़ा सा काम करके है थक जाते है. ऐसे लोगो को अश्वगंधारिष्ट का सेवन करना चाहिए. 

Ashwagandharishta के सेवन से शरीर की थकावट दूर होती है. जिससे आपको पहले से बेहतर महसूस होता है. अश्वगंधारिष्ट में antioxidant की मात्रा होती है. जिससे अश्वगंधारिष्ट बहुत से रोगों मैं औषधि का काम करती है. 

इन्हे भी पड़े : जैतून का तेल को लिंग पर लगाने के फायदे और नुकसान – olive oil ko ling par lagane ke fayde aur nukshan

अश्वगंधारिष्ट के नुकसान – Ashwagandharishta side effect in Hindi

  • 1. अगर आप Ashwagandharishta का सेवन डॉक्टर की देखरेख में करते हैं, तो इसके साइड इफेक्ट की संभावना बहुत कम है. 
  • 2. अगर आपको अश्वगंधारिष्ट में मौजूद किसी घटक से एलर्जी है, तो इसका सेवन करने से बचना चाहिए. 
  • 3. अश्वगंधारिष्ट का सेवन हमेशा सीमित मात्रा में ही करना चाहिए. अधिक सेवन करने से पेट में जलन या एसिडिट की समस्या उत्पन्न हो सकती है.
  • 4. इससे अधिक जानकारी के लिए आप अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं. 

अश्वगंधारिष्ट की सेवन विधि/खुराक – Ashwagandharishta uses in hindi

अश्वगंधारिष्ट का सेवन आप दिन में 2 बार कर सकते है. आपको अश्वगंधारिष्ट का सेवन सुबह नाश्ता करने के बाद और रात में भोजन करने के बाद करना चाहिए. खाना खाने से पहले इसका सेवन करने से बचना चाहिए. अश्वगंधारिष्ट को 3 महीने तक ले सकते हैं. उससे अधिक इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. आपको एक बार में 12ml से 24ml तक ही इसका सेवन करना चाहिए. 

अश्वगंधारिष्ट का चिकित्सीय उपयोग – Ashwagandharishta uses in hindi

Ashwagandharishta को बहुत से विकारों में प्रयोग में लाया जाता है. उन सभी रोगों का वर्णन नीचे किया गया है. 

  • 2. याददाश्त में कमी
  • 3. बेहोशी 
  • 5. तनाव 
  • 6. अवसाद
  • 7. अनिंद्रा 
  • 8. स्तंभन दोष
  • 9. शुक्राणु की कमी
  • 10. नामर्दी
  • 11. वीर्य की कमी
  • 12. पाचन के रोग 
  • 14. शारीरिक दुर्बलतता
  • 15. तंत्रिका तंत्र की दुर्बलतता
  • 16. रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी
  • 17. वात रोग
  • 18. आमवात

इन्हे भी पड़े : लिंग पर वेसलीन लगाने के फायदे और नुकसान – ling par vaseline lagane ke fayde aur nukshan

अश्वगंधारिष्ट का मूल्य और निर्माता कंपनी का नाम – Ashwagandharishta price in India

अश्वगंधारिष्ट को मुख्य आयुर्वेदिक कंपनियां ही बनाती है. उन मुख्य कम्पनियों का नाम – डाबर, पतंजलि, बैदनाथ और संडू ब्रदर्स द्वारा ही बनाया जाता है. और अश्वगंधारिष्ट का मूल्य भी बहुत कम है. अश्वगंधारिष्ट को कोई भी व्यक्ति किसी भी दवाई दुकान से खरीद सकता है. इसे आप ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं. इसके लिए आपको अमेजन या फ्लिपकार्ट की website पर जाना होगा. 

अश्वगंधारिष्ट के बारे में डॉक्टर से पूछे गए सवाल और उनके जवाब

Q1. अश्वगंधारिष्ट Ashwagandharishta का सेवन कितने दिनों तक करना चाहिए? 

Ans : अश्वगंधारिष्ट का आम तौर पर सेवन की अवधि 3 महीना का होता है. आप इसका सेवन 3 महीने तक लगातार कर सकते हैं. लेकिन अगर आपको अश्वगंधारिष्ट का सेवन 3 महीने से अधिक करना है, तो आपको इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से परामर्श कर लें. 

Q2. अश्वगंधारिष्ट Ashwagandharishta का सेवन कब करना करना चाहिए?

Ans : अश्वगंधारिष्ट का सेवन हमेशा खाना खाने के बाद ही करना चाहिए. खाना खाने से पहले इसका सेवन करने से इसका दुष्प्रभाव आपके पेट पर दिख सकता है. 

Q3. क्या अश्वगंधारिष्ट Ashwagandharishta का सेवन शराब के साथ किया जा सकता है?

Ans : अश्वगंधारिष्ट का सेवन शराब के साथ करना आपके सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है. इसलिए अश्वगंधारिष्ट का सेवन शराब के साथ करने से बचना चाहिए.

इन्हे भी पड़े : जापानी तेल लगाने के फायदे, नुकसान और लगाने की विधि – japani oil benefits and side effect in Hindi

Q4. क्या अश्वगंधारिष्ट Ashwagandharishta से मुझे इसकी लत लग सकती है? 

Ans : अश्वगंधारिष्ट के सेवन से लत नहीं लगती है. क्यूंकि यह पूरी तरह सुरक्षित सिरप है. इसलिए आप बिना किसी परेशानी के इसका सेवन कर सकते है. 

Q5. क्या अश्वगंधारिष्ट Ashwagandharishta का सेवन करने के बाद ड्राइविंग किया जा सकता है? 

Ans : आप अश्वगंधारिष्ट Ashwagandharishta benefits in hindi का सेवन कर बिना किसी परेशानी के ड्राइविंग कर सकते हैं. इसमें मौजूद कोई भी घटक नशा के लिए नहीं होता है. 

इन्हे भी पड़े : सांडे के तेल के फायदे, नुकसान और लगाने का सही तरीका – sanda oil benefits and side effect in Hindi

Readmore: Ashwagandharishta uses, benefits and side effect in Hindi

Related Articles

Back to top button