Ayurveda

अभयारिष्ट सिरप के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – Abhayarishta syrup uses, benefits and side effect in Hindi

Contents hide
2 अभयारिष्ट सिरप क्या है? What is Abhayarishta syrup in hindi
2.6 बवासीर में अभयारिष्ट सिरप के फायदे – Abhayarishta syrup benefits in hindi

अभयारिष्ट सिरप – Abhayarishta syrup in hindi

आज के इस आर्टिकल में हम बात करेंगे अभयारिष्ट सिरप के बारे में. abhayarishta-syrup के बारे में तो आप लोगो बहुत सुना होगा. इस वजह से आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको अभयारिष्ट सिरप के बारे में विस्तार से सभी पहलुओं पर जानकारी देने की कोशिश करेंगे. 

अभयारिष्ट सिरप क्या है? What is Abhayarishta syrup in hindi

अभयारिष्ट सिरप ( Abhayarishta syrup ) एक आयुर्वेदिक हर्बल टॉनिक है. इसे आप बहुत सी बियामरियों की औषधि भी कह सकते है. अभयारिष्ट सिरप का उपयोग बहुत सी पेट की समस्याओं में किया जाता है. इसका सेवन गैस, कब्ज, पेट फूलना और बवासीर में मुख्य रूप से किया जाता है. 

अभयारिष्ट सिरप दो नामों से मिलकर बना है. अभय और अरिष्ट. आप की जानकारी के लिए हम आपको बता दें, कि हरड़ को संस्कृत में अभय बोला जाता है. अथार्थ ऐसी आयुर्वेदिक औषधि जिसमे हरड़ के गुण मौजूद होते है. उसे ही अभयारिष्ट कहलाता है. 

Abhayarishta syrup पेट की समस्या के लिए बहुत ही लाभदायक होता है. क्यूंकि इसमें मौजूद हरड़ पेट की सभी समस्याओं के लिए लाभप्रद होता है. इसलिए इसका सेवन पेट की सभी समस्याओं मैं किया जाता है. आप भी इसका पेट की किसी भी समस्या में कर सकते हैं.

इन्हे भी पड़े : पतंजलि लिंग वर्धक तेल के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – patanjali ling vardhak oil uses, benefits and side effect in Hindi

अभयारिष्ट सिरप के घटक द्रव्य – Abhayarishta syrup ingredients in hindi

अभयारिष्ट सिरप में निम्न घटक द्रव्य का इस्तेमाल किया जाता है. 

  • 1. हरड़ 500 ग्राम
  • 2. मुनक्का 250 ग्राम 
  • 3. वायविदिंग 50 ग्राम 
  • 4. महुआ का फूल 50 ग्राम 
  • 5. गुड़ 500 ग्राम 
  • 6. निसोत 10 ग्राम 
  • 7. गोखरू 10 ग्राम 
  • 8. धनिया 10 ग्राम 
  • 9. सौंफ 10 ग्राम 
  • 10. धाय का फूल 10 ग्राम 
  • 11. सोंठ 10 ग्राम 
  • 12. दंटिमुल 10 ग्राम 
  • 13. मोचरस 10 ग्राम 
  • 14. इंद्रायण की जड़ 10 ग्राम 
  • 15. चव्य 10 ग्राम

अभयारिष्ट सिरप बनाने की विधि – Abhayarishta syrup uses in hindi

अभयारिष्ट सिरप बनाना बहुत आसान है. आज हम आपको अभयारिष्ट सिरप को बनाने का तरीका बताएंगे. कि कैसे आप आसानी से इसको घर पर बना कर इसका सेवन कर सकते हैं. नीचे हम आपको अच्छी तरह से समझाने को कोशिश करेंगे. 

सबसे पहले आपको एक बर्तन में 5 लीटर पानी जमा कर लेना है. उसके बाद उस बर्तन में हरड़, मुनक्का, वायविडंग और महुआ के फूल को मोटा मोटा कूट कर इसमें मिला दें. अब इसे गरम करने के लिए चूल्हा पे चढ़ा दें. और इसे तब तक गर्म करे, जब तक यह घट कर 1.250 लीटर ना हो जाए. उसके पश्चात इसको ठंडा कर लें. 

उसके बाद इसमें अन्य सभी बचे घटक द्रव्य को कूट कर इसमें दाल दें. अब इसे किसी कांच के बर्तन में ढाल दें. उसके बाद उस मिश्रण को 1 महीने तक ढक कर रख दें. 1 महीने बाद उसे किसी कांच की बोतल में ढाल लें. इसे ही अभयारिष्ट सिरप कहते हैं. 

इन्हे भी पड़े : पतंजलि लिंग वर्धक टैबलेट के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – patanjali ling vardhak tablet uses, benefits and side effect in Hindi

अभयारिष्ट सिरप के फायदे – Abhayarishta syrup benefits in hindi

अभयारिष्ट सिरप के फायदे निम्न है, जिसका वर्णन नीचे विस्तार में। किया गया है. हम अभयारिष्ट सिरप के फायदे का वर्णन इतना संचेप में कर रहे है, कि आपको आसानी से समझ में आ सके. 

कृमि रोग में अभयारिष्ट सिरप के फायदे – Abhayarishta syrup benefits in hindi

इसका सेवन उन लोगो के लिए बहुत फायदेमंद है, जिनके पेट में कृमि हो गया है. क्यूंकि अभयारिष्ट सिरप कृमि को नष्ट करने में बहुत सहायता करता है. इसमें मौजूद वायविदांग एक घटक द्रव्य होता है. जो कृमि को नष्ट करने में काफी सहायता करता है. 

आगर आपके पेट में कृमि हो जाता है, तो यह आपके भूख को काफी कम कर देता है. आपको हर समय लगता है कि आपका पेट भरा हुआ है. अगर आपको भी ऐशा कुछ लगे, तो आप तुरंत अपने डॉक्टर की सलाह के बाद इसका सेवन सुरु कर दें. इससे आपको फायदा बहुत होगा. 

आंतों के लिए अभयारिष्ट सिरप के फायदे – Abhayarishta syrup benefits in hindi

आगर आपका आंत ठीक रहता है, तो यह आपको बहुत सी बीमारियों से बचा सकता है, लेकिन अगर आपका आंत ही खराब हो जाए या उसमें कोई समस्या आ जाए, तो यह आपके लिए बहुत घातक भी साबित हो सकता है. यदि आपके आंत में समस्या है, तो आपको अभयारिष्ट सिरप का सेवन अवश्य करना चाहिए. 

इसके सेवन से आंत में मौजूद मल धीरे धीरे शरीर से बाहर आने लगता है. आंत में मल ना होने के कारण आंत पूरी तरह साफ और निरोगी हो जाता है. आंत ठीक होने से आप कई बीमारियों से बच भी जाते हैं और अगर शरीर में कोई बीमारी आ गई हो तो उसके ठीक होने की संभावना भी बहुत अधिक हो जाती है. 

इन्हे भी पड़े : स्टे ऑन तेल के इस्तेमाल करने का तरीका, फायदे और नुकसान – stay on oil uses, benefits and side effect in Hindi

बवासीर में अभयारिष्ट सिरप के फायदे – Abhayarishta syrup benefits in hindi

अभयारिष्ट सिरप का सेवन करने से बवासीर की समस्या से भी छुटकारा पा सकते हैं. आपके जानकारी के लिए हम आपको बता दें, कि बवासीर होने का मुख्य कारण होता है कब्ज. अगर कब्ज को इलाज हम सही समय पर ना करते है, इसके इलाज में लापरवाही करते हैं, तो यही आगे चलकर बवासीर जैसी गंभीर समस्या को जन्म देती है, 

यहां पर बहुत से लोगो को यह नहीं पता होगी, कि बवासीर होता क्या है, उनके लिए में बता देना चाहता हूं, कि बवासीर में आपके मल बाहर निकालने के रास्ते में जिसे हम गुदा कहते हैं, उसमे और उसके बाहर आसपास में मस्से हो जाते हैं. जो मल करने के समय बहुत तकलीफ़ देते है, 

ऐसे में आपको बवासीर की समस्या से छुटकारा पाने के लिए अभयारिष्ट सिरप का सेवन करना चाहिए. इसके सेवन आपको बवासीर में काफी राहत मिलती है. यह बवासीर के मस्से को खत्म करने में सहायता करता है.

कब्ज की समस्या में अभयारिष्ट सिरप के फायदे – Abhayarishta syrup benefits in hindi

आज लगभग हर कोई कब्ज और गैस की समस्या से परेशान है, कब्ज का मुख्य कारण होता है. सही समय पर खाना ना खाना, फास्ट फूड, बाहर का खाना, बाहर की तली भुनी के चीज़ों को खाने से बदहजमी, गैस और कब्ज की समस्या शुरू हो जाती है. इन सभी समस्याओं से अगर आप छुटकारा पाना चाहते हैं. तो आपको रोजाना अभयारिष्ट सिरप का सेवन करना चाहिए. इसके सेवन से आप कुछ ही दिनों में कब्ज जैसी समस्या से छुटकारा पा सकते है. जिससे आपका पाचन तंत्र भी मजबूत हो जाता है. 

इन्हे भी पड़े : सांडे के तेल के फायदे, नुकसान और लगाने का सही तरीका – sanda oil benefits and side effect in Hindi

पाचन तंत्र को ठीक करने में अभयारिष्ट सिरप के फायदे – Abhayarishta syrup benefits in hindi

अभयारिष्ट सिरप के सेवन पेट की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं. इसके सेवन से पेट दर्द, पेट में गैस, पेट में कीड़े होना, कब्ज, बदहजमी इसके अलावा और भी बहुत से रोगों में यह बहुत लाभकारी होता है. इसके लगातार सेवन से आपका पाचन तंत्र काफी मजबूत हो जाता है. इसके सेवन भूख की समस्या भी दूर हो जाती है. पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए डॉक्टर भी इसका सेवन करने की सलाह देते हैं. 

अभयारिष्ट सिरप के नुकसान – Abhayarishta syrup side effect in Hindi

1. अभयारिष्ट सिरप का सामान्यतः कोई भी साइड इफेक्ट नहीं है. और यह पूरी तरह सुरक्षित एक आयुर्वेदिक हर्बल टॉनिक है. 

2. इसका सेवन करने से पहले हमेशा डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए. उसके बाद ही इसका सेवन करना चाहिए. 

3. अभयारिष्ट सिरप का सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए. इसका सेवन अधिक मात्रा में करने से बहुत सी बीमारियां उत्पन्न हो सकती है. जैसे – सिर दर्द, पेट में दर्द, चक्कर आना और उल्टी होने जैसी कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती है. इसलिए इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए. 

4. इसका सेवन उन महीलों के लिए बहुत हानिकारक है. जो गर्भवती है. गर्भवती महिला को इसका सेवन करने से बचना चाहिए. इसके सेवन से बच्चे को खोने ( गर्भपात ) का खतरा रहता है. 

5. डायबिटीज़ के मरीजों को भी इसका सेवन करने से बचना चाहिए. या फिर अपने डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए. उसके बाद ही डायबिटीज़ मरीज़ इसका सेवन कर सकते हैं. इसमें गुड़ की मात्रा अधिक होती है. इस वजह से अभयारिष्ट सिरप डायबिटीज़ मरीजों के लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है. 

6. अगर अभयारिष्ट सिरप में मौजूद किसी घटक द्रव्य से आपको एलर्जी है, तो इसका सेवन करने से या तो बचना चाहिए या अपने डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए. 

अभयारिष्ट सिरप की सेवन विधि – Abhayarishta syrup uses in hindi

अभयारिष्ट सिरप का सेवन आप दिन में 2 बार कर सकते है. इसका सेवन सुबह और रात को खाना खाने के बाद करना चाहिए. खाना खाने से पहले इसका सेवन नहीं करना चाहिए. इसका सेवन आप हल्के गुनगुने पानी के साथ भी कर सकते है. 

  • 1. बच्चे एक दिन में इसका सेवन 2.5 से 10 मिलीग्राम तक कर सकते है. 
  • 2. वयस्क व्यक्ति एक दिन में इसका सेवन 10 से 30 मिलीग्राम तक कर सकता है. 
  • 3. महिलाओं को इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. उसके बाद ही इसका सेवन करना चाहिए. 

अभयारिष्ट सिरप के चिकित्सीय उपयोग – Abhayarishta syrup uses in hindi

अभयारिष्ट सिरप का सेवन निम्न बीमारियों में किया जाता है. 

  • 1. भूख बढ़ाने में. 
  • 2. पेट की समस्या को दूर करने में. 
  • 3. कब्ज की समस्या दूर करने में. 
  • 4. बवासीर की समस्या में. 
  • 5. पाचन तंत्र को ठीक करने में. 
  • 6. आंतों की समस्या में. 
  • 7. किर्मी रोग में. 

अभयारिष्ट सिरप का मूल्य – Abhayarishta syrup price 

Abhayarishta syrup के मूल्य की बात करे, तो इसके 450ml शीशी की कीमत ₹163 rupay है. और यह आपको कहीं भी किसी भी दवाई दुकान पर मिल जाएगा. या फिर आप इसे किसी भी ऑनलाइन स्टोर से खरीद सकते है. आप की जानकारी के आप को बता देना चाहते हैं, अभयारिष्ट सिरप का निर्माण कई कंपनियां करती है. 

इन्हे भी पड़े : जापानी तेल लगाने के फायदे, नुकसान और लगाने की विधि – japani oil benefits and side effect in Hindi

अभयारिष्ट सिरप के बारे में डॉक्टर से पूछे गए सवाल और उनके जवाब 

Q1. अभयारिष्ट सिरप का सेवन कितने दिनों तक करना चाहिए? 

Ans : अभयारिष्ट सिरप का सेवन बहुत सी बीमारियों मैं 12 हफ्तों तक किया जाता है. लेकिन बहुत सी बीमारियों मैं इसका सेवन 1 से हफ्तों तक ही किया जाता है. इसलिए इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए. 

Q2. अभयारिष्ट सिरप का सेवन कब करना चाहिए? 

Ans : अभयारिष्ट सिरप का सेवन हमेशा खाना खाने के बाद करना चाहिए. खाना खाने के बाद इसका सेवन करने से रोग मैं अधिक लाभ मिलता है. इसका सेवन खाना खाने से पहले करने से बदहजमी की समस्या भी हो सकती है. 

Q3. क्या अभयारिष्ट सिरप के सेवन से मुझे इसकी लत लग सकती है? 

Ans : अभयारिष्ट सिरप का सेवन करने के बाद इसकी लत नहीं पड़ती है. यह पूरी तरह से सुरक्षित एक आयुर्वेदिक औषधि है. 

Q4. क्या अभयारिष्ट सिरप का सेवन शराब के साथ किया जा सकता है? 

Ans : Abhayarishta syrup का सेवन शराब के साथ नहीं किया जा सकता है. क्यूंकि इसपर अभी कोई रिसर्च नहीं हुआ है. इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें.

इन्हे भी पड़े : हैमर ऑफ थोर के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – hammer of thor uses, benefits and side effect in Hindi

Q5. क्या अभयारिष्ट सिरप का सेवन करने के बाद ड्राइविंग किया जा सकता है? 

Ans : Abhayarishta syrup का सेवन करने के बाद ड्राइविंग किया जा सकता है. क्यूंकि इसके सेवन के बाद चक्कर नहीं आते हैं. इसके अलावा आप भारी मशीनरी भी चला सकते है. 

Q6. क्या अभयारिष्ट सिरप का सेवन बच्चे के लिए सुरक्षित है?

Ans : Abhayarishta syrup का सेवन 10 साल से अधिक उम्र के बच्चो को ही करना चाहिए. कम उम्र के बच्चो को इसका सेवन कराने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना चाहिए. 

Related Articles

Back to top button