Home Othershealth स्त्री को बर्थ कंट्रोल की आजादी देता है ?- female condom -...

स्त्री को बर्थ कंट्रोल की आजादी देता है ?- female condom – othershealth

Female condom in Hindi
Female condom

Female condom

गर्भनिरोधक उपायों की बात आते ही सबसे पहले दिमाग में पुरुषों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले कंडोम का ही ख्याल आता है अथवा, महिलाओं द्वारा ली जाने वाली कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स, पर उपाय और भी है, जो महिलाओं को अपने हिसाब से बच्चे को जन्म देने व आनचाहे गर्भ रोकने की आजादी देती है.

कंडोम के इस्तेमाल को केवल पुरुषों से ही जोड़ा जाता है, शायद इसलिए पत्नी को पति पर पूर्णतः इस बात के लिए निर्भर होना पड़ता है कि वह उसका प्रयोग करेगा या नहीं. इसलिए कभी-कभी उसे ना चाहते हुए भी गर्भधारण करना पड़ जाता है.

 लेकिन बाजार में महिलाओं के लिए भी कंडोम मौजूद है जिनकी मदद से अनचाहा गर्भ रोकने की ताकत उनको हाथ में रहती है. उसका प्रयोग करके खुलकर सेक्स का आनंद भी उठा सकती है.

इसे भी पढ़ें- स्वस्थ प्रसव के लिए करे खुद को तैयार ? 

सशक्तिकरण का ही रूप

मेल कंडोम की तरह फीमेल कंडोम पुरुष एक गर्भनिरोधक है, जिससे महिलाओं के सशक्तिकरण के रूप में देखा जा सकता है. यह सुरक्षित सेक्स करने के साथ-साथ अनावश्यक परेशानियों से बचने की महिलाओं को आजादी भी देता है. लेकिन इसके बावजूद अब भी इसके बारे में जागरूकता ना होने के कारण महिलाएं इसका प्रयोग नहीं कर पा रही है.
फीमेल कंडोम एक पाउच की तरह होता है. इसके दोनों तरफ गोलाकार रिंग होती है, जिसका बंदवाला हिस्सा योनि के अंदर जाता है. और दूसरा योनि के बाहर आता है. सेक्स संबंध से पहले इसे योनि में डाला जाता है. 
यह महिलाओं के योनि को पूरी तरह से गहराई तक कवच प्रदान करता है. इसके पुरुष कंडोम की तुलना में टूटने या लिक होने की संभावनाएं बहुत काम होती है. इसे लगाने से सेक्स के आनंद में बढ़ोतरी होती है. 
क्योंकि यह एक उत्प्रेरक कि तरह काम करता है. पतला होने के कारण पुरष को भी ज्यादा संतुष्टि मिलती है. यही नहीं, योन संक्रमित रोगों को फैलने से रोकने में भी यह मदद करता है. 
Female condom in Hindi
Female condom

कोई साइड इफेक्ट नहीं

सवाल उठ सकता है कि इसके प्रयोग से कोई परेशानी या साइड इफेक्ट तो नहीं? लेकिन यह पूरी तरह सुरक्षित है कुछ महिलाओं को पुरुषों के कंडोम में मौजूद लेटेक्स एलर्जी होती है तो उनके लिए भी फीमेल कंडोम सटीक है क्योंकि इसमें लेटेस्ट नहींलेकिन यह पूरी तरह सुरक्षित है कुछ महिलाओं को पुरुषों के कंडोम में मौजूद लेटेक्स से एलर्जी होती है, तो उनके लिए भी फीमेल कंडोम सटीक है, क्योंकि इसमें लेटेक्स नहीं होते.

सबसे खास बात यह है कि यह पहले से ही लुब्रिकेटेड होते हैं. जो महिलाएं गर्भनिरोधक दवाइयां लेने से कतराती हो, उनके लिए यह उपयुक्त रहते हैं. ये बड़े आकार के होते हैं और अगर आप टैंपोन का इस्तेमाल करती है, तो आपको इन कंडोम का इस्तेमाल करने में दिक्कत नहीं होगी. इनका इस्तेमाल करने से पहले इनकी एक्सपायरी डेट देख ले, वरना इसके फटने की संभावना ज्यादा होगी.

बर्थ कंट्रोल करने के कुछ अन्य प्रमाणिक तरीके 

Coper-t आईयूडी : इसे मल्टिलोड कहा जाता है, जो एक non-हार्मोनल कंट्रोल इंस्ट्रूमेंट है, जिससे युटेरस में डाला जाता है. यह तांबे के तार में लपेटा हुआ (T) आकार का एक प्लास्टिक का टुकड़ा होता है. कुछ लोग इसे कोयल कहते हैं. इसे 12-15 साल तक यूट्रस में रखा जा सकता है. यह योनि में आने वाले शुक्राणु को मार डालता है. इससे फैलोपियन ट्यूब के अंडों का गर्भधारण नहीं होता और महिला गर्भवती नहीं होती.
दायाफ्रामा: यह सिलिकॉन से बना एक छोटा, लचीला कप होता है. इसेेे दबाते हुए योनि के अंदर डालकर गर्भाशय ग्रीबा को ढका जाता है. डायाफ्राम में शुक्राणुनाशक का उपयोग किया जाता है जो सेेक्स के दौरान शुक्राणुओं को गर्भाशय के अंदर जाने से रोकता है, जिससे शुक्राणु अंडे तक नहीं पहुंच पाते.

सर्वाइकल कैप: यह एक छोटा सिलिकॉन कप होता है, जिसे महिला अपनी योनि में डालती है. यह डायाफ्राम की तरह है, लेकिन छोटा होता है. सर्वाइकल कैप में हार्मोन नहीं होता है. इसे सेक्स संबंध बनानेेेे से पहले डाला जाता है. एक ही कैप का उपयोग 2 साल तक हो सकता है.

सपर्मिसाइड: शुक्राणुनाशक शुक्राणुओं को गर्भाशय में प्रवेश करने से रोकने के लिए संभोग से पहले योनि में रखा जाता है. यह क्रीम व जेल के रूप में उपलब्ध है. शुक्राणुनाशक एक रसायन है, जो शुक्राणुओं को गर्भाशय ग्रीवा तक पहुंचाने से पहले नष्ट करने के लिए उपयोग किया जाता है. इसका उपयोग संभोग प्रक्रिया से पहले  किया जाता है, जिससे गर्भ नहीं ठहरता.

Female condom in Hindi
Female condom

स्पंज: स्पंज प्लास्टिक फॉर्म से बना होता है और इसमें शुक्राणुनाशक होता है. इसे स्त्री खुद योनि में डालती है. स्पंज गर्भाशय ग्रीवा को कवर करके गर्भावस्था को रोकता है, ताकि कोई शुक्राणु प्रवेश न कर सके. यह बहुत सुरक्षित उपाय हैं.

गोली: यह इमरजेंसी गर्भनिरोधक गोली है, जो महिलाओं को अनचाहे गर्भ से बचने में मदद करती है. इसमें हार्मोन प्रोजेस्टिन होता है, जो मासिक धर्म चक्र को उत्तेजित करने में मदद करती है. इसका उपयोग उन महिला द्वारा किया जा सकता है,

 जिन्हें संदेह है कि उनका नियमित बर्थ कंट्रोल का तरीका विफल रहा है ( उदाहरण के लिए अगर संभोग के दौरान कंडोम फट गया या अचानक बिना किसी कांट्रेसेप्टिव के सेक्स संबंध बन गया ) सेक्स करने के 72 घंटे के भीतर इसे लेना होता है. हालांकि इस गोली के कुछ साइड इफेक्ट हो सकते हैं, जो मामूली होते हैं.

     3 source

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

ऐसे फैट को कम कर बनाए फिटनेस – fat diet in Hindi

फैट डाइट - fat diet in Hindi  अक्सर फैट कम करने के लिए हम गलत डायट या उपायों...

कहीं जीवन भर का दर्द ना बन जाए स्पॉन्डिलाइटिस – spondylitis in Hindi

स्पॉन्डिलाइटिस - spondylitis in Hindi spondylitis - आज वर्किंग प्रोफेशनल एक आम समस्या से पीड़ित देखे जा रहे...

सोशल डिस्तांसिंग से अधिक कारगर मास्क | Social Distancing |

Social Distancing - कोरोना वायरस से बचाव के लिए सरकार ने सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है. अब भी...

बचे मलेरिया के डंक से – malaria in Hindi

मलेरिया - about malaria in Hindi malaria in Hindi - गर्मी बढ़ने के साथ ही मच्छरों का प्रकोप...

रखें अपनी सांसों का ख्याल – asthma in Hindi – othershealth

अस्थमा - about asthma in Hindi डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार पूरे विश्व में करीब 25 करोड लोग...