Home Disease पीलिया का इलाज करें 1 सप्ताह में परिणाम - Treat Jaundice in...

पीलिया का इलाज करें 1 सप्ताह में परिणाम – Treat Jaundice in A Week

रक्तरस में पित्तरंजक (Billrubin) नामक एक रंग होता है, जिसके आधिक्य से त्वचा और श्लेष्मिक कला में पीला रंग आ जाता है। इस दशा को कामला या पीलिया (Jaundice) कहते हैं। सामान्यत: रक्तरस में पित्तरंजक का स्तर 1.0 प्रतिशत या इससे कम होता है, किंतु जब इसकी मात्रा 2.5 प्रतिशत से ऊपर हो जाती है तब कामला के लक्षण प्रकट होते हैं।

पीलिया के लक्षण

पीलिया का इलाज करें – पीलिया को पीले बुखार के रूप में भी जाना जाता है। और इसके लक्षण हैं बुखार, ठंड लगना, उल्टी, कमजोरी और थकावट, गहरे रंग का मूत्र, पीला मिट्टी का रंग मल, आंखों का रंग पीला होना, त्वचा / शरीर का रंग पीला में बदलना, कुछ मामलों में नाखूनों का रंग सफेद से पीला हो जाता है।

रक्त परीक्षण Blood Test

यदि आप अपने शरीर में इन लक्षणों को महसूस करते हैं तो इसे अनदेखा न करें क्योंकि यह रक्त परीक्षण के लिए एक अच्छे अस्पताल में जाता है।

डॉक्टर आपके आंखों के रंग परिवर्तन की जांच करेंगे। और नाखून भी। और आपसे उन लक्षणों के बारे में पूछेंगे जिनसे आप पीड़ित हैं। वह आपको रक्त परीक्षण के माध्यम से जाने के लिए कहेगा और आपको मल्टीविटामिन टैबलेट देगा।

रक्त परीक्षण जैसे

यकृत समारोह परीक्षण (LFT) –

पीलिया का पता लगाने के लिए मुख्य परीक्षण। {900 रु।}
पूर्ण रक्त गणना (CBC)। {200 रु।}
हेपेटाइटिस बी सतह एंटीजन (HBsAG)। {300 रु।}
एचआईवी 1 और 2 रैपिड टेस्ट। {Rs500}
हेपेटाइटिस सी वायरस (एचसीवी) तेजी से परीक्षण {रु 360}

सभी परीक्षणों के लिए लगभग 2500 / – रुपये का निवेश किया जाएगा। यद्यपि उपरोक्त वर्णित सभी परीक्षण करना अनिवार्य नहीं है, लेकिन अस्पताल इन परीक्षणों को अपने लाभ के लिए करता है। लेकिन मेरी राय में मैं आपको आत्म संतुष्टि के लिए इन सभी परीक्षणों से गुजरने का सुझाव दूंगा।

LFT (जिगर समारोह परीक्षण) रिपोर्ट-

यदि आपके रक्त में बिलीरुबिन का स्तर सामान्य स्तर से अधिक है, तो इसका मतलब है कि आप पीलिया से पीड़ित हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

ऐसे फैट को कम कर बनाए फिटनेस – fat diet in Hindi

फैट डाइट - fat diet in Hindi  अक्सर फैट कम करने के लिए हम गलत डायट या उपायों...

कहीं जीवन भर का दर्द ना बन जाए स्पॉन्डिलाइटिस – spondylitis in Hindi

स्पॉन्डिलाइटिस - spondylitis in Hindi spondylitis - आज वर्किंग प्रोफेशनल एक आम समस्या से पीड़ित देखे जा रहे...

सोशल डिस्तांसिंग से अधिक कारगर मास्क | Social Distancing |

Social Distancing - कोरोना वायरस से बचाव के लिए सरकार ने सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है. अब भी...

बचे मलेरिया के डंक से – malaria in Hindi

मलेरिया - about malaria in Hindi malaria in Hindi - गर्मी बढ़ने के साथ ही मच्छरों का प्रकोप...

रखें अपनी सांसों का ख्याल – asthma in Hindi – othershealth

अस्थमा - about asthma in Hindi डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार पूरे विश्व में करीब 25 करोड लोग...