Home Disease किया है ओसीडी बीमारी ? - what is OCD in Hindi

किया है ओसीडी बीमारी ? – what is OCD in Hindi

ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर ( ओसीडी ) – about OCD in Hindi

महामारी की शुरुआत के साथ ही हेल्थ एजेंसी और सरकार संक्रमण से बचने के लिए लोगों को हाथ धोने और सफाई रखने की सलाह दे रही है. अब वे लोग भी किसी भी चीज को छूने या किसी से मिलने के तुरंत बाद हैंडवाश खोजने लगे हैं, जो पहले सिर्फ खाने के समय ही हाथ धोते थे.

यह करोना के समय में न्यू नॉर्मल है, क्योंकि vaccine नहीं आने तक आप ऐसा कर खुद को काफी हद तक बचा सकते हैं. लेकिन, कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनके लिए बार-बार हाथ धोना या सफाई बनाए रखने के लिए एक ही चीज को कई बार दोहराना नया नहीं है. यह लोग ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर ( ओसीडी ) की वजह से बार-बार हाथ धोते हैं. हालांकि मेडिकल नजरिया से एक्सपर्ट कहते हैं कि ओसीडी एक गंभीर मानसिक बीमारी है.

नेशनल हैल्थ पोर्टल ऑफ इंडिया के मुताबिक, प्रति 100 लोगों में से दो से तीन लोगों को पूरी जीवन में ओसीडी होती है. यह बीमारी पुरुषों और महिलाओं को बराबर प्रभावित करती है. एनएचपी के मुताबिक इस बीमारी की शुरुआत आम तौर पर 20 साल की उम्र में हो जाती है. हालांकि, यह 2 साल के बच्चे से लेकर किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकती है. 

मनोवैज्ञानिक कहते हैं कि ओसीडी एक बीमारी होती है. ये इंसान की सामान्य जीवन को प्रभावित करती है. साथ ही रिलेशनशिप और प्रोडक्टिविटी पर असर डालती है. मरीजों को सोच या व्यवहार के स्तर पर काफी तकलीफ होती है. उनके लिए कोई हालत कंफर्टेबल नहीं होते हैं, क्योंकि मन में कई चीजें बार-बार चल रही होती है.

किया है ओब्सेसिव compulsive disorder ( OCD )? – what is OCD in Hindi

मनोरोग विशेषज्ञ का कहना है कि ओसीडी बीमारी में दो कॉम्पोनेंट्स होते हैं. ऑब्सेशन ( सनक ) और कंप्लसान ( मज़बूरी ). ऑब्सेशन में कई सोच, कोई आईडिया होता है जो इंसान के मन में बार-बार आता है. इस पर कंट्रोल नहीं होता कई बार ऑप्शन होता है, तो व्यवहार में कंपल्शन भी आ जाता है.

जैसे हाथ धोने या क्लीनिंग जैसे कामों से मरीज के मन की घबराहट को कंट्रोल करने की कोशिश करता है. विशेषज्ञों का कहना है कि ओसीडी बायोलॉजिकल और न्यूरोट्रांसमीटर्स का बैलेंस करने की वजह से होता है. इसके इलाज में दवाइयों और साइकोथेरेपी का बड़ा रोल होता है. थैरेपी में सीबीटी की  तरीके का इस्तेमाल किए जाता हैं.


ऑब्सेशन और कंपल्शन का मतलब किया होता है – OCD meaning in Hindi

International OCD foundation के मुताबिक, ऑब्सेशन ऐसे विचार, इमेज होते हैं जो व्यक्ति को बार-बार नजर आते हैं. वेे इस पर अपना नियंत्रण नहीं रख पाते हैं. ओसीडी से जूझ रहे लोग इन विचारों को लाना नहीं चाहते और उनके लिए यह काफी परेशान करने वाले होते हैं. कई मामलों में लोग जानते हैं कि इन विचारों का कोई मतलब नहीं है. आमतौर पर ऑब्सेशन गंभीर और असहज करने वाले एहसास जैसे- डर, संदेह या संतोष के साथ होता है. 

ओसीडी में नजर आने वाले कुछ आम ऑब्सेशन –

गंदगी : इसमें व्यक्ति एचआईवी जैसी बीमारियों से डरता है या उसे एनवायरमेंट को खराब करने वाली चीजें जैसे- रेडिएशन और घर में मौजूद केमिकल्स और धूल को लेकर चिंता बनी रहती है.  

नियंत्रण खोना : खुद को या किसी दूसरे व्यक्ति को चोट पहुंचाना, चोरी और हिंसा का डर जैसी चीजें शामिल होती है. 

नुकसान : व्यक्ति को डर बना रहता है कि वह चोरि या आगजनी जैसी किसी गंभीर घटना का जिम्मेदार है या उसकी लापरवाही के कारण किसी और को नुकसान पहुंचा है. 

परफेक्शन से जुड़े ऑब्सेशन : किसी भी चीज को पूरी या सही तरीके से करने की चिंता रहती है. किसी भी चीज को फेंकते वक्त जरूर जानकारी के बारे में भूल जाने का डर रहता है. चीजों को लेकर फैसला नहीं कर पाते हैं या किसी भी चीजों को खोने का डर.

दूसरे ऑब्सेशन : किसी भी गंभीर बीमारी की चपेट में आने का डर बना रहता है. इसके अलावा लकी या अनलकी नंबर और रंगों को लेकर अंधविश्वास वाले आइडिया आते हैं.

कंपल्शन – 

ये कुछ ऐसे व्यवहार होते हैं जहां व्यक्ति अपने ऑब्सेशन को खत्म करने के प्रयास करता है. वह ओसीडी से जूझ रहे लोगों को यह पता होता है कि या केवल आस्थाई उपाय है, लेकिन इससे बचने का सही तरीका खोजने के बजाय वे कंपल्शन पर निर्भर होते हैं. 

ओसीडी में नजर आने वाले कुछ आम कंपल्शन 

धुलाई और सफाई : इसमें 1 तरीके से बार-बार हाथों को धोना, हद से ज्यादा देर तक नहाना, दांत साफ करना या सफाई से जुड़ी चीजों को करते रहना शामिल है.

चेकिंग : यह जानने के लिए कि आप खुद को या किसी और को नुकसान तो नहीं पहुंचा रहे हैं. बार-बार किसी चीज की जांच करना. यह पता करते रहना कि कुछ बुरा तो नहीं हुआ या आप से कोई गलती तो नहीं हुई. शरीर के कुछ हिस्सों को बार-बार चेक करना.  

दोहराना : बार-बार किसी चीज को पढ़ना-लिखना या किसी भी बॉडी मूवमेंट को दोहराते रहना. 

ओसीडी के क्या लक्षण होते हैं – OCD symptoms in Hindi

इसे एक चिंता विकार के रूप में वर्णित किया गया है. जिसमें निम्न संकेत दिए गए हैं. जिसका उदाहरण नीचे दिया गया है : 

1. किसी भी चीज को बार बार दोहराना. 

2. मूड पर असर पड़ना. 

3. प्रोडिक्टिविटी कम होना 

4. बार बार हाथ धोना. 

5. अत्यधिक सफाई.

6. रिश्तों में संदेह करना.

7. गलत व्यवहार. 

मनोचिकित्सकों का कहना है कि अगर किसी भी इंसान को मानसिक बीमारी है, तो वह काफी तनाव में नजर आएगा. ओसीडी से जूझ रहे व्यक्ति को डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए.

Covid-19 और ओसीडी

कोरोना वायरस के कारण हो सकता है कई लोगों के ओसीडी लक्षण प्रभावित हुए हैं. डॉक्टरों का कहना है कि किसी भी तरह का तनाव बीमारी के असर को बढ़ाता है. अगर आप इसकी तुलना कोविड-19 के दौरान सफाई से करेंगे तो यह अलग है, क्योंकि हमारे दिमाग में यह बात बार-बार नहीं चलती है. इसके कारण हमारी लाइफ रिलेशन पर असर नहीं पड़ता है. यह सबसे बड़ा फर्क है. इन टिप्स को फॉलो कर अपने आप को शांत कर सकते हैं.

ओसीडी को कैसे दूर करें – OCD ko kaise dur Kare 

अगर आप गंदगी से जुड़े डर से जूझ रहे है : स्वास्थ्य ऑर्गेनाइजेशंस की सिफारिशों के मुताबिक बेसिक सेफ्टी प्लान तैयार करने के लिए खुद को तैयार करें. ध्यान रखें कि इसमें अपने हिसाब से चीजों को शामिल ना करें. सतहों को दिन में एक बार साफ करें. 

बार-बार छूने में आ रही सतहों पर फोकस करें. पहले सोच ले कि क्या वाकई यह जरूरी है. यह प्रक्रिया हर रोज कोई कुछ मिनटों में पूरी हो सकती है. बाथरूम के उपयोग के बाद, बाहर से आने के बाद, खाने से पहले और खासने के बाद हाथों को साबुन और पानी से 20 सेकंड तक धोएं. अगर आपके पास हैंड वाश नहीं है तो कम से कम 60% एल्कोहल वाले हैंड सैनिटाइजर का उपयोग करें.

अगर आप परफेक्शन से जुड़े ऑब्सेशन से जूझ रहे है तो : खुद को यह याद दिलाएं कि कोई भी खुद को कोविड-19 से पूरी तरह नहीं बचा सकता है और कोई आपसी इसकी उम्मीद भी नहीं कर रहा है इस तरह के हालात में प्रशिक्षण पाने के बजाय कॉमन सेंस का इस्तेमाल करें. 

ऐसे में अपने भरोसेमंद दोस्त, परिवार के सदस्य या थैरेपिस्ट की मदद लेना मददगार हो सकता है. साथ ही इन गाइड लाइंस के तरीकों को मानने में थैरेपिस्ट आपकी मदद कर सकता है. 

अगर आप किसी और को नुकसान पहुंचाने के विचार से जूझ रहे है तो : हो सकता है कि ओसीडी आपको कोविड-19 के डर का फायदा उठाएं. आपको यह एहसास करवाएं कि आपने किसी को इनफेक्ट कर दिया है, या भविष्य में कर सकते हैं. अगर आप इस तरह के विचार नोटिस कर रहे हैं, तो अपने थैरेपिस्ट से मिले और उन्हें लक्षण बताएं.   

ओसीडी का निदान कैसे करें ? – OCD ka nidan kaise kare

अगर आपको लक्षण नजर आ रहे हैं तो, सबसे पहले हेल्थ को मॉनिटर करें. साइकेट्रिस्ट या थैरेपिस्ट जैसी एक्सपर्ट की सलाह लें. क्योंकि आपके विचार या व्यवहार को जानने के तरीके सीखने की जरूरत है. यह तरीके आपको एक्सपर्ट्स बता सकते हैं क्योंकि वह आप की स्थिति को देखकर उपाय तैयार करेंगे. ताकि आप असहज ना हो.

अगर आप अपने स्तर पर इस बीमारी पर काम करना चाहते हैं तो ऐसी छोटी सोच जो आपको तकलीफ ना दे. उन्हें नजरअंदाज करें. व्यवहार में बदलाव लाने पर चिंता कम करें. बार-बार आ रहे विचारों से बचने की कोशिश करें और खुद को टेस्ट करें कि क्या आप ऐसा कर पा रहे हैं या नहीं. धीरे-धीरे इसका स्तर बढ़ाएं.

इसका खुद उपचार करना मुश्किल होता है, क्योंकि यह एक बीमारी है. और यह क्या डर, भय और घबराहट की वजह बनती है. ऐसे में एक्सपर्ट से बात करना जरूरी है. लक्षण नजर आ रहे हैं, तो परिवार या दोस्तों से इसके बारे में बात करें. इसमें फैमिली सपोर्ट बहुत जरूरी होता है. 

Reference

Health Expertshttps://othershealth.in
Health experts: आजकल की जीवनशैली ऐसी है की लोग विभीन्न तरह की बीमारियों से पीड़ित है और दवा लेते लेते थक चुके है। Othershealth.in के माध्यम से आप अच्छे से अच्छा घरेलू उपचार और चिकित्सा कर सकते है। हम Doctors and Experts की टीम है,जिसमे चिकित्सा विशेषज्ञ के द्वारा यह जानकारी दी गयी है की हम एक अच्छी और स्वस्थ जीवन कैसे जी सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

ज़ालिम लोशन के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – zalim lotion uses, benefits and side effect in Hindi

ज़ालिम लोशन - zalim lotion in Hindi आज हम इस आर्टिकल में ज़ालिम लोशन ( zalim lotion in hindi )...

जापानी एम कैप्सूल के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – japani m capsule uses, benefits and side effect in Hindi

जापानी एम कैप्सूल - japani m capsule in Hindi आज हम इस आर्टिकल में जापानी एम कैप्सूल ( japani...

स्टेमेटिल टैबलेट के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – stemetil md tablet uses, benefits and side effect in Hindi

स्टेमेटिल एमडी टैबलेट - stemetil md tablet in Hindi   हम इस आर्टिकल में स्टेमेटिल एमडी टैबलेट ( stemetil md tablet...

बर्नोल क्रीम के फायदे, उपयोग और दुष्प्रभाव – burnol cream uses, benefits and side effect in Hindi

बर्नोल क्रीम - burnol cream in Hindi आज हम इस आर्टिकल में बर्नोल क्रीम ( burnol cream in Hindi...

दिव्य मेदोहर वटी के फायदे, नुकसान और सेवन करने की विधि – Divya medohar vati uses, benefits and side effect in Hindi

दिव्य मेदोहर वटी - Divya medohar vati in Hindi दिव्य मेदोहर वटी Divya medohar vati uses in hindi एक...